नगर पंचायतों का दर्जा छीनने के विरोध में सडकों पर उतरी भाजपा, राज्यपाल ने नाम सौंपा ज्ञापन | Shivpuri News

शिवपुरी। मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार राजनीतिक विद्वेष के चलते प्रदेश की 30 नगर परिषद को तोडक़र फिर से 112 ग्राम पंचायत में बदलना चाहती है जिसका उन्नयन भाजपा के शासनकाल में किया गया था लेकिन दुर्भाग्य से कांग्रेस सरकार सारे जनहित और विकास कार्यों को ताक पर रखकर लगातार राजनीतिक विद्वेष के अपने एजेंडे पर अपना काम कर रही है कांग्रेसी कमलनाथ सरकार के मध्य प्रदेश की सारी जन हितैषी योजनाओं को भी बंद कर दिया है।

जिससे आमजन को मिलने वाली सुविधाएं से वंचित हो रहा है। भारतीय जनता पार्टी इस फैसले का विरोध करती है एवं राज्यपाल महोदय से अनुरोध करती है कि  विद्वेष पूर्ण लिए गए इस निर्णय को तत्काल प्रभाव से बदलें यह बात भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष राजू बाथम ने करैरा में एसडीएम कार्यालय में तहसीलदार को ज्ञापन देते हुए कहीं।

भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के द्वारा विद्वेष पूर्ण रवैया के कारण नगर पंचायतों को पुन: ग्राम पंचायत में बदलने का जो निर्णय लिया है इसके विरोध स्वरूप आज करैरा में जिलाध्यक्ष राजू बाथम, पोहरी के पूर्व विधायक प्रहलाद भारती एवं कोलारस में विद्यायक वीरेंद्र रघुवंशी के नेतृत्व में ज्ञापन दिया गया।

पोहरी में ज्ञापन देते हुए पूर्व विधायक प्रहलाद भारती ने कहा कि कांग्रेसी सरकार भारतीय जनता पार्टी के जन हितेषी निर्णय को बदल कर मध्य प्रदेश की जनता के साथ छल कर रही है यह विद्वेष की भावना से काम कर रही है। वहीं कोलारस में विधायक वीरेंद्र रघुवंशी के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं के साथ एसडीएम कार्यालय पर पहुंचकर ज्ञापन दिया।

इस अवसर पर विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने कहा कि पिछले 1 साल से कमलनाथ की सरकार ने मध्यप्रदेश में कोई भी जनहित का काम नहीं किया जबकि इसके विपरीत शिवराज सरकार द्वारा चलाए जा रहे सभी जन हितैषी योजनाओं को बंद कर मध्य प्रदेश की जनता को परेशान किया जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह द्वारा 30 नगर पंचायतों को बनाया गया उनको भी उन्हें ग्राम पंचायत बनाकर विद्वेष की भावना से काम कर रही है। तहसील स्तर पर मंडल कार्यकर्ताओं ने भी ज्ञापन सौंपा।