मिर्ची सेठ की सेक्सी मिर्ची सोशल पर वायरल:सामने आई सभ्य समाज का काला चेहरा lalit mudgal @ X-Ray

शिवपुरी। शिवपुरी के सोशल के कई व्हाटऐप ग्रुपो पर एक मिर्ची सेठ का एक काला चिठठा वायरल हो रहा है। इसी मिर्ची सेठ के कारण ही मिडिया में जूली काण्ड ने सुर्खिया विखेरी थी। आज मिर्ची सेठ की हरी काली और कई प्रकार की मिर्चियो के मसाले वायरल होने से फिर जन चर्चा में आ गया। अब मिर्ची सेठ की मिर्चिया शहर के धन्ना सेठो से निकलकर प्रशासनिक अमले तक पहुंच गई हैं। आईए इस पूरे मामले का एक्सरे करते हैं।

पहले हम आपको पढाते हैं सोशल पर वायरल हो रही मिर्च की सेक्स स्टोरी

मिर्ची सेठ से वायरल हो रही मिर्ची सेठ का चलीसा सोशल पर वायरल हो रहा हैं। यह चालीसा किसने बनाया यह जानकरी नही हैं। इसमे मिर्ची सेठ का नाम और जाति भी स्पष्ट लिखी हैं इस वायरल चालीसा का अर्थ हम अपने पाठको को कम शब्दो का प्रयास किया हैं।

मिर्ची सेठ उम्र लगभग 32 साल निवास और करोबार शहर की चौराहे पर 14 नंबर कोठी के आसपास। पहले काम था मिर्ची बेचना फिर मिर्चियो को पीस कर पावडर बनाकर बेचना। मिर्ची और मिर्च पावडर बेचने के कारण शहर में मिर्ची सेठ के नाम का दर्जा हासिल किया।

जल्द ही पैसो के लालच में मिर्ची सेठ की दूसरी किस्म की मिर्चियो के लिए मशहुर हो गया। चूकि जाति से वैश्य था और शहर के धन्नो सेठो में बैठक थी अब मिर्ची सेठ की मिर्ची किचिन न पहुंचकर विस्तरो पर पहुचने लगी।

पहली लाल मिर्ची का ही कारोबार था,लेकिन डिमांड बढने के कारण मिर्ची सेठ की मोबाईल की गैलरी में कई तरह की मिर्चियो सेंपल दिखने लगे। मिर्ची सेठ का प्रोडक्ड की गर्मी की आहट धन्ना सेठो से निकलकर शहर के कई प्राशनिक अधिकारियो के बिस्तरो से आने लगी।

इसी मिर्ची सेठ के कारण ही आज से 5 साल पूर्व शिवपुरी की मिडिया ने जूली जैसे पात्र को जन्म दिया था। जूली पात्र ने शहर में सुर्खिया बटौरी थी। बताया गया था कि यह जूली नाम की मिर्ची शहर के मिर्ची सेठ का ही प्रोडक्ट था। कभी 10 हजार रू बजार से बडी मुश्किल से मिलते थे,अब लाखो करोडो मिर्ची सेठ पर शहर न्यौछावर कर रहा हैं।

ऐसा नही है कि मिर्ची सेठ की मिर्चिया लाखो करोडो लेती हैं,लेकिन मिर्ची सेठ की मिर्चियो को परोसने के कारण प्रशासनिक गलियारो में संबंध गहरे हैं। जमीनो के अवैध काम अब मिर्ची सेठ की मिर्चियो के कारण आसानी से हो रहे है।

यह हवाई फायर नही हैं। कुछ दिन पूर्व एक अतिक्रमण को तुडवाने के मामले में मिर्ची सेठ का नाम सामने आया था। बकायदा पीडित ने प्रेस वार्ता कर मिर्ची सेठ से लेनदेन के विवाद के कारण अपने मकान को तोडना बताया था,यह प्रत्यक्ष उदाहरण था मिर्ची सेठ की पावर का।

कुल मिलाकर कुछ यह मामला हनी ट्रेप जैसा ही दिखता हैं। मिर्ची सेठ की मिर्चिया किचिन में नही बिस्तरो पर तीखापन दिखा रही हैं। आज सोशल पर मिर्ची सेठ का पूरा चालीसा सामने आया हैं यह किसने और किस कारण वायरल किया हैं यह तो समझ से परे हैं,लेकिन इस पूरे प्रकरण से एक बात सामने आ रही हैं कि शिवपुरी के राजस्व के अधिकारी मिर्ची सेठ की मिर्चिया से अवश्य हनी ट्रेप हो रहे हैं यह बात बिल्कुल सत्य हैं।

अभी तक इस मिर्ची सेठ की मिर्चियो ने इन् व्यापारियो को किया है हनी ट्रेप
मिर्ची सेठ का शिकार में सबसे पहले एक बर्तन व्यापरी हुआ,इसके बाद एक मैरिज गार्डन संचालक,मिठाई वाला,जमीन करोबारी तक इनी ट्रेप हुए हैं। बताया जा रहा है कि शहर के बडे—बडे जमीनो के कारोबारी आजकल मिर्ची सेठ की खुशामद करते देखे जा सकते हैं।