कांग्रेस तथा सेक्युलर पार्टियां CCA को लेकर भ्रम की स्थिति फैला रही है: जयभान सिंह पवैया

शिवपुरी। नागरिकता संशोधन अधिनियम को लेकर देश भर में फैली भ्रांतियों को दूर करने के लिए भाजपा द्वारा चलाए जा रहे जागरूकता अभियान के तहत ग्वालियर से आए पूर्व कैबिनेट मंत्री जयभान सिंह पवैया ने आज टूरिस्ट विलेज में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस नागरिकता संशोधन बिल को पचा नहीं पा रही हैं। इसलिए क्षेत्रीय पार्टियों से मिलकर सोची समझी साजिश के तहत वोट बैंक की राजनीति करते हुए अल्प संख्यकों में भ्रम की स्थिति फैलाकर विरोध कर रही हैं। जिसमें हिंसक भीड़ द्वारा तोड़ फोड़ आगजनी जैसी घटनायें कारित कर रही हैं।

एक पत्रकार के सवाल था कि राजस्थान में गुर्जरों, जाटों का गुजरात में पटेलों के आंदोलन के तहत की गई तोड़ फोड़ व आगजनी के बाद उन से क्षति पूर्ति राशि क्यों नहीं बसूली गई जो उ.प्र. सरकार द्वारा मुस्लिम लोगों से की जा रही हैं। जिस पर जयभान सिंह पवैया ने कहा कि गुजरात और राजस्थान के आंदोलन अपनी मांगों को लेकर किए जा रहे थे। लेकिन उ.प्र. में तो कोई मांग ही नहीं हैं।

उक्त कानून नागरिकाता देने के लिए बनाया गया हैं, न कि नागरिकता समाप्त करने के लिए। उ.प्र. में ही निहत्थे राम भक्तों पर गोलियां चलाई गई और खून की नदियां बहाई गई थी। जबकि उनका कोई भी समाज विरोधी कार्यक्रम नहीं था। बंगलादेश बनने के बाद हजारों की संख्या में आए पीडि़त हिन्दू परिवारों को नागरिकता प्रदान की थी। लेकिन उस समय इसका कोई भी विरोध विरोधी पार्टियों द्वारा नहीं किया गया था। तत्कालीन समय में सत्ता में ऐसे स्वार्थी लोग नहीं थे। जो अपने स्वार्थ की खातिर राष्ट्रहितों को दरकिनार कर दें।

अब सरकार द्वारा कानून बनाया हैं जो राष्ट्रहित में हैं। उन्होंने आगे कहा कि विभाजन के समय बंगलादेश में 22 प्रतिशत पाकिस्तान में 23.5 प्रतिशत हिन्दू आवादी थी। लेकिन आज की स्थिति यह है कि पाकिस्तान में 3 प्रतिशत और बंगलादेश 7 प्रतिशत हिन्दू आवादी रह गई हैं। जबकि हिन्दुस्तान में आजादी के समय मुस्लिम समुदाय की आवादी 9 प्रतिशत थी लेकिन आज वह आवादी बढ़कर 14 प्रतिशत हो चुकी हैं। कांग्रेस तथा अन्य सैक्युलर पार्टियां मुस्लिम समुदाय को अपने वोट बैंक की बापौती समझ कर केन्द्र शासन का विरोध कर रही हैं।

उन्हें ऐसा लगता हैं कि मुस्लिम समुदाय का वोट बैंक हाथ से खिसक रहा हैं। कांग्रेस पूर्व से ही भरी हुई बैठी थी। केन्द्र सरकार द्वारा धारा 370, 35 ए, राम मंदिर व तीन तलाक जैसे मुद्दों को अपने शासन काल में समाप्त कर दिया। अभी कांग्रेस भ्रम में न रहे कि मुद्दे समाप्त हो चुके हैं अभी इतने मुद्दे शेष हैं कि कांग्रेस सांस भी नहीं ले पाएगी और केन्द्र सरकार द्वारा एक-एक कर उनका निराकरण कर लिया जाएगा। सीएए के विरूद्ध फैली भ्रांतियों को दूर करने के लिए भाजपा कार्यकर्ता मुस्लिम समुदाय के बीच जाकर उन्हें वास्तविकता से अवगत कराएगा। जिसका अभियान भाजपा द्वारा प्रारंभ कर दिया गया हैं।