इसे कहते है जिद और जूनून: सांप के काटने के बाद लगाई छात्रा ने सबसे लंबी छंलाग,संभाग में प्रथम | Shivpuri News

शिवपुरी। कहते हैं कि संसार की सर्वश्रेष्ठ शक्ति अपना आत्मविश्वास और स्वंय पर भरोसा होता है। ऐसे ही एक जिद और जूनन का मामला शिवपुरी के सिंहनिवास से आ रहा है,यहां की रहने वाली 10वीं क्लास की छात्रा को शाम को सांप ने डसा,ईलाज के बाद सुबह उसने अपनी लंबी कूंद प्रतियोगिता में हिस्सा लिया और संभाग में प्रथम स्थान प्राप्त किया।  

जानकारी के अनुसार शहर से सटे  सिंहनिवास गांव के सरकारी स्कूल की कक्षा दसवीं की छात्रा रीना रावत को संभाग स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के कुछ घंटे पहले सांप ने डस लिया। परिजन को यह पता लगा तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। परिजन तत्काल इलाज के लिए लेकर दौड़े। करीब आठ घंटे बाद छात्रा को होश आया। होश आने के बाद वह बेहद डरी हुई थी।

लेकिन जैसे ही उसे याद आया कि सुबह उसे लंबी कूद प्रतियोगिता में भाग लेना है तो उसने फिर खुद को संभाला। हालांकि परिजन ने उसे प्रतियोगिता में हिस्सा लेने से रोका लेकिन वह नहीं मानी। गुरुवार की सुबह रीना जिला खेल परिसर शिवपुरी पहुंच गई और यहां आठ जिलों की संभाग स्तरीय शालेय लंबी कूद प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लिया। इसमें रीना रावत ने 3.56 मीटर की छलांग लगाकर संभाग में पहला स्थान पाया। इसी के साथ रीना का चयन राज्य शालेय खेलकूद प्रतियोगिता में हो गया।

मालूम हो कि रीना रावत ने सीनियर वर्ग की लंबी कूद में हिस्सा लिया। रीना का चयन राज्य स्तर के लिए हो गया है। बता दें कि ग्वालियर व चंबल संभाग के आठ जिलों के स्कूली बच्चों की संभागीय शालेय खेलकूद प्रतियोगिता शिवपुरी जिला मुख्यालय के खेल परिसर में आयोजित कराई गईं।

पैर में सूजन और दर्द के बाद भी लगाई सबसे लंबी छलांग

छात्रा ने मीडिया को बताया कि बुधवार की शाम 4.30 बजे स्कूल से लाैटी। राेज की तरह गाय काे घास देने के लिए उठाने गई ताे सांप ने काट लिया। डर के मारे मेरी चीख निकल गई। घरवाले दौड़े-दौड़े मेरे पास आए और चीखने का कारण पूछा। मैंने बताया कि मुझे सांप ने डस लिया है। यह सुनते ही उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। अब मुझे चक्कर आने लगे और फिर मुझे कुछ होश नहीं कि मुझे क्या हुआ।

इसके बाद मेरे घर वाले मेरा इलाज कराने के लिए ले गए। करीब आठ घंटे बाद रात 12 बजे मुझे होश आया। मुझे रात को ही याद आया कि सुबह तो मेरी प्रतियोगिता है। मैं पहले तो डरी लेकिन फिर मैंने हिम्मत से काम लिया। सुबह ही प्रतियोगिता में हिस्सा लेने शिवपुरी पहुंच गई। भले ही सांप के काटने का दर्द था, पैर पर सूजन थी लेकिन मैं निराश नहीं हुई। आखिर मेरी मेहनत सफल हुई। अब मुझे प्रदेश स्तर पर खेलने का मौका मिलेगा।