परिषद की बैठक, अध्यक्ष और CMO के मुंह पर दस्तावेज मारे, अंत में बनी सहमति | Shivpuri News

शिवपुरी। भ्रष्टाचार की भेंट चढी शिवपुरी नगर पालिका में आज परिषद की बैठक में जमकर हंगामा हुआ। इस हंगामें के बीच नगर परिषद में पार्षदों ने अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह और प्रभारी सीएमओ मनोज गरवाल के उपर कागज फैंक दिए। पार्षदों ने आरोप लगाए की पीआईसी में किए गए ठहरावों में नियमों को ताक पर रखाकर अपने चहेतो को लाभ पहुंचाने के लिए नियम विरूद्ध काम किए गए है। लेकिन अंत तक एंजेंडे के सभी बिंदुओं पर सहमति बन गई।

आज प्रारंभ हुई नगर परिषद की बैठक प्रारंभ होते ही हंगामा प्रारंभ हो गया। पार्षदों ने नगर पालिका अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह और प्रभारी सीएमओ मनोज गरवार से पीआईसी के पूर्व में हुए ठहरावों की जानकारी चाही। जिसपर बिना साईन किए हुए दस्तावेज पार्षदों को सौंप दिए। जिसपर पार्षद भडक गए और उन्होंने बिना साईन किए दस्तावेज अध्यक्ष और सीएमओ के मूंह पर मार दिए।

कांग्रेस पार्षद आकाश शर्मा ने आरोप लगाते हुए कहा कि हमें किसी के बिना साइन किए हुए दस्तावेज सौंपे गए । जिनका कहीं भी रिकॉर्ड भी मिलना मुश्किल है। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि बस स्टैंड के स्थाई दखल का टेंडर 86 रूपए में हुआ है। जिसके हिसाब से 7800 रूपए रोज नगरपालिका को आना चाहिए । मगर पिछले दो माह से नगरपालिका में मात्र 1000 रूपए से 2000 रूपए प्रतिदिन जमा हो रहे हैं। बस स्टैंड से आप बसूली कर रहे हो तो वहां की व्यवस्थाओं को कौन देखेगा। बस स्टैंड पर सबसे ज्यादा गंदगी है। मच्छर और जहरीले कीटाणु पनप रहे हैं  ।

बस स्टैंड के टेंडर वाली बात पर विपक्ष के नेता भानु दुबे ने आरोप लगाते हुए कहा कि यह सीधा सीधा नगर पालिका के अधिकारियों द्वारा राजस्व की हानि है। जो हम किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेंगे। महिला पार्षदों द्वारा भी ठेकेदार द्वारा वर्कऑर्डर मिलने बाद भी काम चालू नही किये जाने के आरोप लगाए। हालांकि अंत मे सभी पार्षदों की सहमति से एजेंडे में जोड़े गए सभी बिंदुओं को पास कर बैठक सम्पन्न हुई।