वजन घोटाला पकाने की तैयारी: विभाग की रजामंदी से बरसात में भीग रहा है सैकड़ों क्विटल गेंहू

शिवपुरी। शहर के नागरिक आपूर्ति निगम एवं वेयर हाउसिंग कॉरपोरेशन के अधिकारी व कर्मचारियों की लापरवाही के चलते गेंहू शासकीय दर पर खरीद कर खुले मैदान में रखा गया हैं। जिसे पूर्व में तिरपाल से ढका गया था। जिसे कर्मचारियों द्वारा हटा दिया गया हैं। ऐसी बारिश के मौसम में खुले में रखा हुआ गेंहू निश्चित रूप से खराब हो जाएगा तथा वह कुछ समय में ही खराब हो जाऐगा और इसमें वजन भी बढेगा।

जिसे कुछ समय बाद खाद्य विभाग शासकीय उचित मूल्य की दुकानों पर आपूर्ति कर दिया जाएगा। फिर चाहे वह गेंहू खाने योग्य हो अथवा नहीं। इतना तो तय हैं कि  बारिश में गेंहू के भींगने पर गेंहू का बजन अवश्य बढ़ जायेगा।और यह वजन घोटाला विभाग का पक जाऐगा  

जानकारी के अनुसार नागरिक आपूर्ति निगम और वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन के लोग किस तरह लाखों रुपए के गेंहू को बारिश में भिगो कर खराब करने में लगे हुए हैं  यह देखिए बारिश में खुले में गेहूं रखे हुए हैं और जानबूझकर उनकी त्रिपाल हटा दी गई है जिससे गेहूं मैं पानी भर जाए और 50 किलो का कट्टा 60 और 70 किलो में पीडीएस के दुकानदारों को दिया। जा रहा हैं।

इसके बाद यह गेहूं भले ही खाने लायक नहीं रहे अथवा सड़ जाए इसकी समस्त जिम्मेदारी विक्रेता और उचित मूल्य की दुकानों पर डाल दी जाएगी यह गड़बड़झाला वरिष्ठ अधिकारियों की मिलीभगत से शिवपुरी जिला प्रशासन की आंखों के सामने चल रहा है। जिसके वीडियो एवं फोटो सोसशल मीडिया की साईड पर वायरल हो रहे हैं।

इसके बाद भी जिला प्रशासन जागरूक नहीं हो रहा हैं। सबसे बड़ी बात तो यह हैं कि खाद्य नागरिक आपूर्ति निगम के अधिकारी इतनी बड़ी लापरवाही कर क्यों रहे हैं। स्थानीय जागरूक लोगों ने उचित मूल्य की दुकान दारों से अनुरोध किया हैं कि। भीगे हुए गेहूं अपनी दुकानों पर नहीं उतरवाए नहीं तो खराब माल देने पर उपभोक्ता की मार आपको झेलना पड़ेगी।