Ads 720 x 90

आदिवासी ने घास मारने डाली थी कीटनाशक, फसल जल गई | Bairad News

बैराड़। तहसील क्षेत्र के ग्राम ठगौसा के गरीब आदिवासी गंगाराम द्वारा अपने खेत में 15 बीघा मैं सोयाबीन की फसल बोई थी । बारिश अनुकूल होने के कारण उसके खेत में सोयाबीन की फसल तो लहरा गई परंतु उसमें पैदा हुई खरपतवार घास को मिटाने के लिए दुकानदार से जो दवाई लाया उसके डालने के बाद पूरी फसल जल गई  जिस कारण आदिवासी परेशान हो गया।

गंगाराम आदिवासी का कहना है कि वह फसल नष्ट होने से पूरी तरह बर्बाद हो चुका है उसने कर्जा लेकर सोयाबीन का बीज अपने खेतों में डाला था किसान का आरोप है कि बैराड के राजेंद्र धाकड़ की दुकान मां लखेश्वरी बीज भंडार से वह  घांस, खरपतवार नष्ट करने की दवा लेगया जिसे उसने खेत में डाला तो 2 दिन बाद उसकी पूरी फसल काली पड़ गई एवं जल गई।  

दुकानदार द्वारा उसे नकली दवाई दी गई इस कारण उसकी फसल जल गई,वह बर्बाद हो गया। किसान का कहना है कि दवाई डालते वक्त दवाई खत्म होने पर कुछ हिस्सा बच गया जहां दवाई नहीं डाली वहां पर अच्छा सोयाबीन खड़ा हुआ है दुकानदार से इस बात की शिकायत करने पर उसे दुत्कार कर भगा दिया। आदिवासी ने अपने साथ हुई धोखाधड़ी  के खिलाफ कार्यवाही किए जाने की मांग की है।