पोर्टल पर पदों की गड़बड़ी के कारण 70 शिक्षकों के ट्रांसफर होल्ड, आज होगी काउंसलिंग

शिवपुरी। राज्य सरकार के शिक्षा विभाग द्वारा जारी की गई शिक्षकों की ऑनलाइन तबादला नीति में जिले के सैकड़ों शिक्षक कार्यमुक्त होकर अपने नए कार्यस्थल पर उपस्थित हो गए हैं, लेकिन पोर्टल पर पदों की गलत जानकारी की वजह से जिले के 70 से अधिक शिक्षक ऐसे हैं जिनके तबादले तो हो गए हैं, लेकिन जिन स्थानों पर उनके तबादले हुए हैं वहां उनकी विषय के पद रिक्त नहीं है।

इस वजह से ऐसे प्रकरणों को ऑनलाइन होल्ड पर रखा गया है। ऐसे शिक्षकों की काउंसलिंग शनिवार की दोपहर 12 बजे शहर के डाइट में आयोजित की गई है। इन शिक्षकों को इस काउंसलिंग में पोर्टल पर ऑनलाइन विकल्प भरवाकर उन स्थानों पर पदस्थापना दी जाएगी, जहां अब पद रिक्त बचे हुए हैं। इसके पहले डीईओ ने सुबह 10ः30 बजे जिले के सभी संकुल प्राचार्यों को डाइट में मौजूदा छात्र संख्या व विषयमान के हिसाब से की पदों की स्थिति को लेकर बुलाया गया है।

पोर्टल पर सही जानकारी होती तो नहीं होते होल्ड पर शिक्षक

अध्यापक व शिक्षक संगठनों का कहना है कि जिले में हुए ऑनलाइन तबादलों में यह स्थिति सिर्फ इस वजह से निर्मित हुई है कि विभाग ने पोर्टल पर पदों की जानकारी अपडेट नहीं की। इस वजह से तबादलों के लिए आवेदन करने वाले शिक्षकों ने ऑनलाइन पोर्टल के हिसाब से प्रदर्शित हो रहे पदों के अनुसार विकल्प भर दिए, लेकिन उन स्कूलों में पहले से ही पद भरे हुए थे।

इन तबादलों में जिले में तकरीबन 70 शिक्षकों के तबादले होल्ड पर हैं जिनकी जगह खाली नहीं है। अगर पोर्टल पर सही जानकारी होती तो यह स्थिति नहीं बनती। यही वजह है कि ऐसे शिक्षकों के लिए दोनों संकुलों से रिलीव होने के बाद अभी भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

कई अपात्रों के हुए तबादले, अब होंगे निरस्त

जिले में ऑनलाइन हुए तबादलों में पद रिक्त न होने की वजह से भले ही 70 शिक्षक होल्ड पर हों, लेकिन इन शिक्षकों में कुछ शिक्षक-शिक्षिकाएं ऐसे भी हैं जिन्होंने ऑनलाइन तबादलों में गलत जानकारी भरकर तबादला नीति का लाभ लिया है।

ऐसे शिक्षक दोनों संकुलों से कार्यमुक्त भी हो चुके हैं, लेकिन ऐसे मामलों में शिक्षकों ने पति-पत्नी के शासकीय सेवक होने की गलत जानकारी भरकर तबादला नीति का लाभ लिया है। इसमें एक सिंहनिवास की शिक्षिका भी शामिल हैं। अब देखना यह है कि विभाग ऐसे अपात्र लोगों के खिलाफ क्या कार्रवाई करता है।

अभी भी नहीं प्रदर्शित हो रहे खाली हुए पद

विभाग का कहना है कि शनिवार की दोपहर डाइट में ऐसे शिक्षकों की ऑनलाइन काउंसलिंग होगी जो कि होल्ड पर रखे गए हैं। इन शिक्षकों को पोर्टल पर प्रदर्शित हो रहे रिक्त पदों के मुताबिक स्कूलों की च्वाइस फिलिंग करनी होगी। अगर इन पदों में शिक्षक की सहमति नहीं होगी तो शिक्षक का तबादला निरस्त होने का रास्ता भी साफ हो सकेगा।

फिलहाल सूत्रों का कहना है कि अभी भी ऑनलाइन पोर्टल पर पुराने पद प्रदर्शित हो रहे हैं। खाली हुए नए पद पोर्टल पर दिखाई नहीं दे रहे हैं। फिलहाल ऐसे शिक्षकों को काउंसिलंग के लिए अपना ऑनलाइन ट्रांसफर आदेश व तबादले के लिए भरे गए ऑनलाइन विकल्प का पत्र लाना जरुरी होगा।