60 से अधिक स्कूली वाहन पकड़े तो बने अघोषित छुट्टी जैसे हलात,ठूंस-ठूंस कर भरे बच्चे | Shivpuri News

शिवपुरी। शहर में गुरुवार की सुबह 6.30 बजे सीजेएम शिवपुरी ने दाे जेएमएफसी के साथ मिलकर तीन जगह पॉइंट लगाकर स्कूली वाहनों की चेकिंग शुरू कर दी। ढाई घंटे की चेकिंग में 64 स्कूल वाहन पकड़े गए। 21 ओवरलोड स्कूल बस व वैन जब्त कर ली गईं।

एक प्राईवेट स्कूल की बस में  42 सीटर बस में 65 बच्चे बैठे मिले। वहीं जैसे ही चेकिंग की खबर मिली, स्कूल वालों ने बच्चों को लाने के लिए कई बसें भेजी ही नहीं, जिससे बच्चे सड़कों पर खड़े रहकर स्कूल बसों का इंतजार ही करते रहे। बच्चों को लाने स्कूल बसें नहीं भेजने के मामले में जिला परिवहन अधिकारी को निर्देश देकर कार्रवाई की बात सीजेएम ने कही है।

सीजेएम शिवपुरी राधाकिशन मालवीय ने पोहरी चौराहे पर चेकिंग पॉइंट लगाया। एक-एक करके सभी स्कूल वाहनों को रोककर चेकिंग शुरू की। ज्यादातर बसों में क्षमता से ज्यादा बच्चे बैठे मिले। इसी तरह ग्वालियर बायपास चौराहे पर जेएमएफसी सेलजा गुप्ता और झांसी तिराहे पर जेएमएफसी रानो बघेल ने चेकिंग की।

सीजेएम के साथ प्रशिक्षु जज तन्वी माहेश्वरी, सिटी कोतवाली टीआई बादाम सिंह यादव, ट्रैफिक थाना प्रभारी रणवीर सिंह यादव और ग्वालियर बायपास पर प्रशिक्षु जज पूजा वर्मा तथा झांसी तिराहे पर प्रशिक्षु जज अपेक्षा यादव के साथ-साथ पुलिस बल मौजूद रहा। अचानक सुबह स्कूल वाहन पकड़े जाने की जानकारी लगते ही स्कूल संचालकों ने बच्चों को लाने अन्य वाहन ही नहीं भेजे, फिर भी काफी संख्या में वाहन पकड़ लिए।

किड्स गार्डन स्कूल की बस में 65 बच्चे, टीचर की गोद में भी बैठे थे दो बच्चे

पोहरी रोड पर रेलवे क्राॅसिंग के पास सीजेएम ने एक प्राइवेट स्कूल की बस क्रमांक एमपी33 पी0398 रुकवाई। गिनती कराने पर टीचरों सहित स्कूल बस में कुल 65 बच्चे बैठे मिले। दो सीटों पर पांच बैठे थे। एक टीचर की गोद में भी दो बच्चे थे। पूछने पर महिला टीचर बोली कि ये दोनों बच्चे मेरे हैं।


स्कूल बसों के इंतजार में खड़े रहे बच्चे, कई पालक खुद छोड़ने गए

चेकिंग की सूचना से स्कूल संचालकों में हड़कंप मच गया। कार्रवाई के डर से स्कूल संचालकों ने वाहन नहीं भेजे। हालात यह रहे कि बच्चे दो-दो घंटे सड़क किनारे इंतजार करते रहे। कुछ पालक खुद ही बच्चों को छोड़ने स्कूल तक गए। सेंट चार्ल्स स्कूल, गुरुनानक, सेंट पीटर स्कूल आदि के बच्चे परेशान रहे। पालक मोहन सिंह ने बताया कि दो घंटे इंतजार के बाद बच्चे घर लौट आए। स्कूल गए तो प्राचार्य ने जवाब तक नहीं दिया।

ढाई घंटे में इन स्कूलों के वाहनों की चेकिंग की गई

शहर के ईस्टर्न हाइट्स स्कूल की 10 बसें, गीता पब्लिक 3, हैप्पी डेज स्कूल 7, किड्स गार्डन 6, जीके हेरिटेज 5, गणेशा ब्लेस्ट स्कूल 3, वनस्थली स्कूल 1, विद्यानिकेतन स्कूल 1, रेडिएंट कॉलेज शिवपुरी बस 1, अम्वेश स्कूल बस 1, रोजवैली स्कूल बस 2, सरस्वती विद्यापीठ स्कूल बस 1, सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल बस 1, ऋषिकुल स्कूल बस 1, मदर टेरेसा स्कूल बस 1, जीनियस स्कूल बस 1, आईपीएस स्कूल बस 1, गुरुनाक स्कूल बस 1, एसडीएम स्कूल बस 2, रंगढ़ रेनवो स्कूल बस 1, सेंट बेनेडिक्ट स्कूल बस 3, शिवपुरी पब्लिक स्कूल बस 2, सेंट चार्ल्स स्कूल बस 7, कोलारस पब्लिक स्कूल बस 1, लक्ष्य स्कूल की 1 स्कूल वैन की चेकिंग हुई है। 

बिना लाइसेंस बस चला रहे थे 6 ड्राइवर

स्कूल बसों के दस्तावेजों के साथ-साथ चालकों के लाइसेंस भी मांगे गए। इस दौरान छह चालकों पर मौके पर लाइसेंस नहीं मिला है। स्कूल बसों पर चलने वाले स्टाफ में से 33 पर बैज नहीं मिले। चार लोग बिना वर्दी में पाए गए।