Ads 720 x 90

दूषित पानी पीने से धामनटूक में 26 आदिवासी बच्चे बीमार | KOLARAS, SHIVPURI NEWS

कोलारस। शिवपुरी जिले के बदरवास तहसील के अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत धामनटूक में दूषित पानी पीने से लगभग दो दर्जन से अधिक आदिवासी परिवार के बच्चों सहित पुरूष व महिलाओं की हालत बिगड़ की गई जिन्हें उपचार हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बदरवास व कोलारस में भर्ती कराया गया हैं। वहीं दो बच्चों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें शिवपुरी जिला चिकित्सालय के लिए रैफर किया गया हैं।

इस बात की जानकारी ग्रामीणों द्वारा कोलारस विधायक वीरेन्द्र रघुवंशी को दी गई तो उन्होंने तत्काल भोपाल से अधिकारियों को फोन लगाया तब कहीं जाकर स्वास्थ्य महकमा हरकत में आया और आनन फानन में धामनटूक ग्राम में एक स्वास्थ्य कर्मियों की टीम को भेजा गया जो गांव में बीमार मरीजों को दवायें वितरित कर उनका इलाज कर रहे हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत धामनटूक में इस समय गांव सारे हैड़पंप खराब होने से गांव वासी कुए का दूषित पानी पीने के लिए विवश हैं। कुए का पानी दूषित होने की बजह से ग्रामीणों की हालत खराब हुई हैं और उन्हें लगातार उल्टी, दस्त की शिकायत हो रही हैं। जो सामान्य तय हैजा के लक्ष्ण बताए जाते हैं।

कोलारस विधानसभा क्षेत्र के ग्राम धामन टूक की आदिवासी बस्ती में रहने वाले आदिवासी समाज के लगभग 16 बच्चे सहित महिलाएं बीमारी की चपेट में आ गई इनको इलाज हेतु बदरवास कोलारस इलाज हेतु भर्ती कराया गया है।

कोलारस अस्पताल में धामनटूकगांव के यशपाल पुत्र रमेश आदिवासी उम्र 15 वर्ष पूनम पुत्री शिशुपाल आदिवासी लक्ष्मी पुत्री रमेश आदिवासी 6 वर्ष नीरज पुत्र रोशन आदिवासी 9 साल बबलेश पुत्री काशीराम आदिवासी 11 साल निशा पुत्री राजधर आदिवासी 7 वर्ष राम लखन पुत्र रामवीर आदिवासी 8 वर्ष देवेंद्र पुत्र रामवीर आदिवासी 6 वर्ष धरमूपुरामचरण आदिवासी 11 वर्ष पर्वत सिंह पुत्र प्यारेलाल द्रोपति पत्नी गोविंद आदिवासी 25 वर्ष रामा पत्नी नंदन आदिवासी 20 वर्षसहिता शहीद बसंता पुत्री नंदन आदिवासी 4 वर्ष अर्जुन पुत्र नंदन आदिवासी 1 वर्ष को बुखार उल्टी होने की शिकायत पर कोलारस अस्पताल में इलाज हेतु लेकर आए जहां उनका इलाज जारी है कोलारस अस्पताल से गोविंद आदिवासी उम्र 3 वर्ष को गंभीर बीमारी के चलते शिवपुरी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया।

कोलारस में इलाज करा रहे देवेंद्र पुत्र रामवीर आदिवासी को गंभीर हालत में शिवपुरी रेफर किया गया कोलारस में आए आदिवासी बच्चों का इलाज ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक डॉ विवेक शर्मा द्वारा किया गया बॉक्स कोलारस अस्पताल में जिम्मेदार बीएमओ मैडम नहीं थी मौजूद। ग्राम धामनटूक से इलाज कराने लाए गए बच्चों को कोलारस अस्पताल में भर्ती किया गया परंतु यहां पर पदस्थ जिम्मेदारबीएमओ मैडम श्रीमती अलका त्रिवेदी अस्पताल से गायब थी।

जब हमारे संवाददाता ने उनको फोन लगाया तो उन्होंने फोन तक रिसीव नहीं किया 4 घंटे बाद ही शिवपुरीसे मैडम कोलारस अस्पताल पहुंची कोलारस अस्पताल में जब से डॉक्टर श्रीमती अलका त्रिवेदी पर बीएमओ का प्रभार आया है तब से ही वह अस्पताल से हमेशा गायब बनी रहती हैं जिसका लाभ और कर्मचारी भरपूर उठाते हैं कुल मिलाकर इतना बड़ा मामला होने के बावजूद भी जिम्मेदार अधिकारी पूरे 4 घंटे बाद अस्पताल पहुंची यह चर्चा का विषय बना हुआ है
बॉक्स

हैजा की बीमारी बता रहे ग्रामीण कुएं के पानी पीने से हुई यह बीमारी

बदरवास के धामन टूक मैं आदिवासी बस्ती में निवासरत करीब 16 बच्चो और  गांव की 6 महिलाओं को बीमारी कुएं के पानी पीने से हुई है जिसे हैजा कहा जाता है आदिवासियों ने बताया कि बीते 2 दिनों से हमारे बच्चे बीमार हो रहे थे उन्हें बुखार उल्टी हो रही थी और गांव के उप स्वास्थ्य केंद्र की कर्मचारी महिला हमारा इलाज कर रही थी।

जब गांव के पटेल को पता चला तो उन्होंने जिला कलेक्टर को फोन लगाया कोलारस एस डी एम ने कोलारस अस्पताल फोन लगाकर चिकित्सकों को बताया तब जाकर स्वास्थ्य विभाग हरकत में आया और आननफाननमे गांव में बीमार आदिवासियों के बच्चों महिलाओं को लेने के लिए अस्पताल से बाहन भेजा गया और उन्हें बदरवास कोलारस अस्पताल के वार्डो में भर्ती कराया गया जहां उनका इलाज चल रहा है दो बच्चों को गंभीर होने के चलते शिवपुरी  अस्पताल के लिए भर्ती किया गया

इनका कहना है
हमारे गांव में हमारी आदिवासी बस्ती में 100 के करीब परिवार निवासरत हैं हम लोग कुएं से पानी लेकर आते हैं और कुएं के पानी से ही हमारे बच्चे और मैं बुखार से पीडि़त हो गए हमारी बस्ती के और भी बच्चे यहां पर इलाज करा रहे हैं बीते 2 दिनों से हमारे बच्चे बुखार से पीडि़त थे और आज जब उल्टियां होने लगी तो हमको अस्पताल में इलाज के लिए लेकर आए
द्रोपति आदिवासी
निवासी ग्राम धामनटूक बदरबास