कल सब्जी मंडी से हटेगा अस्थाई अतिक्रमण, दुकानदारों को चेतावनी | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। नगर पालिका प्रशासन द्वारा शहर की यातायात व्यवस्था को सुचारू रूप से संचालित करने की दृष्टि से सब्जी मंडी प्रांगण में नीचे बैठे सब्जी विक्रेताओं को आज नगर पालिका के अधिकारियों द्वारा खुले रूप से चेतावनी दी गई हैं कि आप अपनी दुकानों में ही सामान रखकर विक्रय कर सकते हैं। अन्यथा नीचे बैठे विक्रेताओं की सब्जी सहित सामान को नगर पालिका प्रशासन सुबह 6 बजे पहुंचकर जप्त कर वैधानिक कार्यवाही करेगा।

उक्त बात की जानकारी आज नगर पालिका के राजस्व अधिकारी पूरन कुशवाह ने देते हुए बताया कि शहर में यातायात व्यवस्था को सुचारू रखने की दृष्टि से चलाई जा रही अस्थाई अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत पहले दिन अस्पताल प्रांगण के सामने रखी गुमटियों को हटाया गया और आज शाम को हमने सब्जी मंडी के अंदर पहुंचकर सब्जी विक्रेताओं को चेतावनी दी हैं। व्यवस्थित तरीके से सब्जी की दुकानें लगाई जाए जिससे मंडी में आने वाले नागरिकों को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो और वह आसानी सब्जी खरीद सके।

दुकान में सब्जी रख नीचे विक्रय करते हैं दुकानदार

सब्जी मंडी में अभी हाल में स्थिति यह है कि नगर पालिका द्वारा बनाई गई दुकानों में खाली डलिया और सब्जियों को रख कर सब्जी विक्रेता नीचे फट्टा बिछाकर अपनी दुकान लगा लेते हैं जिससे सब्जी मंडी सब्जी खरीदने आने वाले ग्राहकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता साथ ही आम रास्ता भी जाम हो जाता हैं। जिसकी शिकायत काफी समय से मंडी कर्मचारियों द्वारा की जा रही थी। इसी कड़ी को ध्यान में रखते हुए यह कार्यवाही की जा रही हैं।

मंडी ठेकेदार द्वारा काटी जाती हैं बैठक बसूली की रसीद

नगर पालिका द्वारा पूर्व में वितरित की गई सब्जी दुकानों का नगर पालिका बैसे तो कोई शुल्क नहीं बसूलता हैं लेकिन मंडी ठेकेदार द्वारा बैठक बसूली के नाम पर सिर्फ 5 रूपए की रसीद के अलावा कुछ नहीं बसूलता हैं। इसके एवज कई मंडी प्रांगण में दुकान लगाने वाले दुकानदारों अपनी मनमर्जी के अनुसार जगह घेर कर अपनी-अपनी दुकानें मंडी की गैलरी में लगा ली जाती हैं। जिससे काफी परेशानी हो रही हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए नपा सीएमओ सहित अन्य कर्मचारी ने अस्थाई अतिक्रमण हटाने की मुहिम के तहत आज सब्जी मंडी व्यापारियों को चेतावनी दी हैं कि अपनी-अपनी दुकानों में बैठक ही दुकान लगायें। जिससे मंडी सुव्यवस्थित हो सकें।