बसपा प्रत्याशी को मिलाने से स्पष्ट है कि सिंधिया को हार का हो गया है आभास: केपी यादव | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी लोकेंद्र सिंह राजपूत के कांग्रेस में शामिल होने पर भाजपा प्रत्याशी केपी यादव ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि सिर्फ एक व्यक्ति कांग्रेस में शामिल हुआ है, लेकिन बहुजन समाज पार्टी अभी भी सिंधिया के विरोध में खड़ी है। बसपा प्रत्याशी राजपूत को कांग्रेस में शामिल कराकर सिंधिया ने दलित समाज का अपमान किया है और यह किरार समाज का भी अपमान है। जिसका बदला गुना शिवपुरी क्षेत्र के मतदाता लेेंगे। 

भाजपा प्रत्याशी केपी यादव ने कहा कि जो भी सर्वेक्षण बाहर निकलकर आ रहे हैं वह सिंधिया के खिलाफ हैं और उन्हें भी इसका एहसास है। इसी कारण वह बौखलाकर षडय़ंत्रपूर्वक दूसरी पार्टी के प्रत्याशियों को साम-दाम-दंड-भेद की राजनीति से अपने पक्ष में करने में लगे हुए हैं। कांग्रेस प्रत्याशी सिंधिया राजा हैं और उन्हें सिर्फ अपनी जीत दिखती है और जीत के लिए वह षडय़ंत्र करने से भी नहीं चूकते। 

पत्रकारों ने जब श्री यादव से सवाल किया कि बसपा प्रत्याशी राजपूत पहले से ही डमी दिख रहे थे और अब कांग्रेस में शामिल होने से क्या यह स्पष्ट नहीं हो गया है कि वह विशुद्ध रूप से डमी प्रत्याशी हैं? इस पर श्री यादव का जवाब था कि आप समझ क्यों नहीं रहे। डमी प्रत्याशी स्वयं सिंधिया हैं जिन्होंने अपने चार बार के कार्यकाल में कोई विकास कार्य नहीं किया और यदि विकास कार्य किया है तो वह उस आधार पर वोट मांगते न कि अन्य दलों के प्रत्याशियों को अपने पक्ष में करने का षडय़ंत्र रचते। 

श्री राजपूत ने एक सवाल के जवाब में कहा कि श्री सिंधिया अपने बाप-दादाओं के आधार पर वोट मांगते हैं और उन्होंने खुद कुछ नहीं किया। नौजवान होने के बाद भी वह बड़े बुजुर्गों से पैर छिवाने में वह गौरव का अनुभव करते हैं इससे मुझे बहुत दुख होता है और इनके रहते हुए क्षेत्र के लोगों को कभी भी प्रतिनिधित्व का मौका नहीं मिलता।