दून स्कूल में मना बाल दिवस: शिक्षिका और स्टूडेंट का भावनात्मक नृत्य, भर आई आंखें- Shivpuri News

शिवपुरी।
एक बच्चा एक इंसान का पिता होता है। इन्द्रधनुष देखकर यदि आपका बचपन में दिल धडकता है तो बुढ़ापे में भी धडकना चाहिये, प्रसिद्ध अंग्रेजी कवि विलियम वर्डवर्थ की कविता माई हार्ट लीप्स अप से ली गयी इन पंक्तियों के माध्यम से दून पब्लिक स्कूल की संचालिका डॉ. खुशी खान ने विद्यार्थियों को बाल दिवस की शुभकामनाएं देते दी।

बच्चो को समझाया कि जो अच्छे संस्कार, व्यवहार,अच्छी शिक्षा जो आप अपने बचपन में प्राप्त करते हैं वही आपके आने वाले कल और सफलता के लिये सबसे महत्वपूर्ण होती है।

शिक्षकों ने विभिन्न परफार्मेंस देखकर किया बच्चों का मनोरंजन

इस बाल दिवस कार्यक्रम की सबसे रोचक बात ये रही कि इस सम्पूर्ण आयोजन में न केवल बच्चों ने बल्कि विद्यालय के समस्त स्टाफ ने भी विभिन्न डांस. नृत्य नाटिका व प्रतियोगी गेम्स के माध्यम से बच्चों का खूब मनोरंजन किया। प्रारंभ में शिक्षिका सलोनी झा व एकाउण्टेंट कल्पना ने स्वागत नृत्य प्रस्तुत किया। इसके पश्चात् शिक्षिका निरूपमाएतोहीदा ने गायन प्रतिभा का परिचय दिया। स्कूल मैनेजमेंट रुबीना खान ने कहानी के माध्यम से मेहनत की महत्वता बताई।

रमनदीप, सहजी,निशिता, रश्मिा, नवजीत आदि शिक्षिकाओं ने सामूहिक डांस प्रस्तुति देकर बच्चों को भी थिरकने के लिये मजबूर किया। भानू सर द्वारा बच्चों के लिए मनोरंजक गेम्स प्रतियोगिता कराई गयी। साहिल सर व कक्षा आठवीं के विद्यार्थियों ने नृत्य नाटिका के माध्यम से शानदार प्रस्तुति देकर बच्चों सहित सभी स्टाफ को हँसने के लिये मजबूर कर दिया।

अंत में शिक्षिका कंचन शर्मा व कक्षा सातवी की छात्रा तनीषा खान ने नृत्य नाटिका के माध्यम से माँ.बेटी के भावनात्मक रिश्तों की प्रभावशाली ढंग से प्रस्तुति की जिसे देखकर वहाँ उपस्थित बच्चोंए स्टाफ सहित समस्त लोगों की आँखे भर आई व सभी ने खड़े होकर उनका उत्साहवर्धन किया।

मंच का प्रभावी संचालन डॉ. अपेक्षा शर्मा द्वारा किया अंत में संचालक शाहिद खान. डाँ. संजय शर्मा ने समस्त विद्यार्थी व स्टाफ को धन्यवाद ज्ञापित किया व स्वल्पाहार के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।