Shivpuri News- लंपी वायरस का प्रवेशः अब तक चार केस आ चुके सामने,अलर्ट मोड पर प्रशासन

शिवपुरी। शिवपुरी जिले में लंपी वायरस ने अपनी दस्तक दे दी है। जिले के चार गांव में लंपी स्किन रोग के संक्रमित पशु मिले हैं। इन चार गांवों के पशुओं में पइस रोग के लक्षण पाए गए हैं। पशु चिकित्सक का कहना है कि इन पशुओं के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं।

सूढ, गंगौरा, खजूरी और तिघरा गांव में पशु संक्रमित मिले हैं। पशुपालन विभाग के उप संचालक डॉ गिरिराज तिवारी के अनुसार लंपी रोग को लेकर वैक्सीनेशन का काम जारी है। इन चारों गांवों में कई पशुओं में लंपी स्किन रोग के लक्षण पाए गए हैं इन गांवों में वैक्सीनेशन का काम भी किया जा रहा है साथ ही ग्रामीणों को जागरूक करने का कार्य भी तेजी से चल रहा है।

अलर्ट मोड पर प्रशासन
लंपी वायरस की आहट से पशुपालन विभाग सहित जिला प्रशासन अलर्ट मोड में आ गया है। जिले में जिला प्रशासन द्वारा आवश्यक कदम उठाए गए हैं। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट अक्षय कुमार सिंह ने लंपी स्किन डिजीज के संक्रमण से जिले के पशुओं को बचाने, जन सामान्य के हित में धारा 144 के अंतर्गत जिले की संपूर्ण सीमा क्षेत्र में आवश्यक गतिविधियों को प्रतिबंधित किए जाने की कार्यवाही की है।

जारी आदेश में जिले में पशुओं का परिवहन, पशु मेला एवं पशुओं के हाट बाजारों को प्रतिबंधित किया गया है। इसके अलावा अन्य जिलों एवं राज्यों से शिवपुरी जिला क्षेत्र की सीमा में पशुओं का प्रवेश प्रतिबंधित किया गया है।

जिले की सीमा राजस्थान और उत्तरप्रदेश से है सटी
शिवपुरी जिले की सीमा उत्तरप्रदेश सहित राजस्थान से सटी हुई है। अब तक राजस्थान में लंपी वायरस पीड़ित पशु सबसे ज्यादा मिले हैं। इसलिए शिवपुरी में एहतियात बरती जा रही है। पशुपालन विभाग के अधिकारियों ने बताया है कि जिले के चार गांवों में कुछ पशुओं में लंपी स्किन रोग के लक्षण पाए गए हैं।

यहां पर पशुपालकों को जागरूक किया गया है साथ ही वैक्सीनेशन का काम भी जारी है। जिले में एक हजार वैक्सीन उपलब्ध हैं और अभी तक 300 पशुओं को वैक्सीनेशन का काम हो चुका है। किसानों को अपने मवेशियों को लेकर जागरूक रहना होगा।