तहसील कार्यालय में महिला बाबू लटकी फांसी पर, कर्मचारियों ने देख लिया: हालत गंभीर- Pohri News

पोहरी। जिले की पोहरी तहसील में पदस्थ एक महिला बाबू ने कार्यालय में फांसी लगाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया। महिला बाबू को साथी कर्मचारियों ने देख लिया और उसे तत्काल पोहरी स्वास्थ्य केंद्र ले गए। वहां से महिला को गंभीर हालत में जिला अस्पताल रेफर किया गया। महिला की हालत फिलहाल नाजुक बनी हुई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार तहसील कार्यालय में पदस्थ बाबू बेबी पत्नी स्वर्गीय सुरेंद्र जाटव उम्र 30 साल ने मंगलवार की शाम करीब पौने पांच बजे तहसील कार्यालय में फांसी लगाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया लेकिन जैसे ही वह फंदे पर झूली उसे साथी कर्मचारियों ने देख लिया और तत्काल फंदे से उतारकर पोहरी अस्पताल ले आए।

पोहरी अस्पताल में उसकी गंभीर हालत को देखते हुए उसे शिवपुरी रैफर कर दिया गया। शिवपुरी में फिलहाल महिला को डॉक्टरों की देखरेख में रखा गया है। हालत नाजुक बताई जा रही है। महिला बाबू ने कार्यालय में फांसी लगाकर आत्महत्या करने का प्रयास क्यों किया, फिलहाल खुलासा नहीं हो सका है।

जिला अस्पताल में महिला बोलने की हालत में न होने के कारण फांसी लगाने के कारणों के बारे में कुछ नहीं बता पाई। सूत्र बताते हैं कि महिला ने फांसी लगाने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था, परंतु फिलहाल उक्त सुसाइड नोट को दबा दिया गया है। हालांकि इस मामले को कार्यस्थल पर मानसिक प्रताड़ना से जोड़ कर देखा जा रहा है। इस पूरे मामले में एसडीएम राजन बी नाडिया को फोन लगाया गया तो उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया।

कुछ समय पहले ही मिली अनुकंपा

बताया जा रहा है कि महिला का पति सुरेंद्र जाटव स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ था। करीब तीन साल पहले उसकी मौत हो गई थी। पति की मौत के बाद उसकी पत्नी बेबी को अनुकंपा नियुक्ति के रूप में नौकरी मिली थी। वह तभी से तहसील कार्यालय में सेवाएं दे रही है।

सूत्रों की मानें तो इससे पूर्व भी बेबी कार्यालय में ही अचानक बेहोश होकर गिर पड़ी थी। तत्समय में भी बेबी ने किसी दवा आदि का सेवन किया था। एक महिला कर्मचारी द्वारा लगातार तहसील कार्यालय में इस तरह से आत्महत्या का प्रयास करना पूरे मामले और कार्यालय के महौल सहित कर्तव्य स्थल पर महिला की सुरक्षा पर प्रश्न चिन्ह लगा रहा है।