कल तक फाइनल हो जाएंगे भाजपा के टिकट, भाजपा की बैठक आज:यशोधरा राजे लेंगी भाग- Shivpuri News

शिवपुरी। नगर पालिका शिवपुरी के 39 वार्डो में पार्षद पद के प्रत्याशियों के चयन हेतु भाजपा की बैठक आज 15 जून को शाम 4 बजे आयोजित की गई है। बताया जाता है कि इस बैठक में विशेष रूप से प्रदेश सरकार की मंत्री और शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया भाग लेंगी। बैठक में भाग लेने हेतु यशोधरा राजे सिंधिया आज ग्वालियर से चलकर शिवपुरी आ रही हैं।

भाजपा जिलाध्यक्ष राजू बाथम ने बताया कि नगर पालिका और नगर परिषद में पार्षद प्रत्याशियों के चयन हेतु पार्टी की कोर कमेटी की बैठक 15 और 16 जून को दोनों दिन आयोजित की गई है। उम्मीद है कि पार्षद पद के प्रत्याशियों का चयन कल देर रात तक हो जाएगा। नामांकन फार्म 18 जून तक भरे जा सकेंगे।

भारतीय जनता पार्टी में इस बार नगर पालिका शिवपुरी में पार्षद पद हेतु जबरदस्त घमासान देखने को मिल रहा है। एक-एक वार्ड से एक-एक दर्जन से अधिक उम्मीदवार टिकट की मांग कर रहे हैं। भाजपा जिलाध्यक्ष राजू बाथम ने बताया कि अभी तक साढ़े 400 से अधिक वायोडेटा उन्हें प्राप्त हो चुके हैं। इसके अलावा यशोधरा राजे सिंधिया और ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी टिकट के दावेदारों ने अपने बायोडाटा भेजे हैं।

टिकट प्राप्ति हेतु दावेदार भोपाल और ग्वालियर के चक्कर लगा रहे हैं। कल यशोधरा राजे सिंधिया के ग्वालियर आगमन पर शिवपुरी से अनेक दावेदार उन्हें वायोडेटा देने तथा टिकट की प्रार्थना करने के लिए ग्वालियर गए। बताया जाता है कि यशोधरा राजे ने उनसे कहा कि वह जीतने वाले प्रत्याशी को टिकट देंगी। टिकट सर्वे में जिसका नाम प्रमुखता से होगा, उसे टिकट दिया जाएगा। ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में आने के कारण भी पार्षदों के टिकट का फैसला भाजपा के लिए आसान नहीं है। सूत्रों के अनुसार सिंधिया खैमा नगर पालिका चुनाव में कम से कम 10 टिकट की मांग कर रहा है। ऐसे में सभी को समाहित करना आसान नहीं होगा।

कई पार्षदों के कटेंगे टिकट

भाजपा सूत्र बताते हैं कि इस बार के नगर पालिका चुनाव में पिछले चुनाव में जीते कई पार्षदों के टिकट कटेंगे। जिन पार्षदों का परर्फोमेंस खराब रहा है और वह अपने वार्ड में सक्रिय नहीं रहे हैं, उन्हें टिकट नहीं दिया जाएगा। कई ऐसे पार्षद भी टिकट की दौड से दूर होंगे। जिनका वार्ड आरक्षित हो चुका है। वहीं अध्यक्ष पद के दावेदार भी ऐसे लोगों को टिकट से बंचित करने का प्रयास कर रहे हैं, जो अध्यक्ष के चुनाव में उनके लिए खतरा बन सकते हैं। कई भाजपा नेताओं ने खुद के अलावा अपनी पत्नी और परिवार की महिलाओं के लिए भी टिकट की मांग की है।

भाजपा के लिए बागी उम्मीदवारों का संकट

इस नगर पालिका चुनाव में सर्वाधिक भितरघात का सामना भाजपा को करना पड़ सकता है। पार्षद पद हेतु भाजपा टिकट की सर्वाधिक मांग है और जिन्हें टिकट नहीं मिलेगा वह या तो निर्दलीय रूप से चुनाव मैदान में उतरेंगे अथवा चुनाव मैदान से दूर रहकर भाजपा उम्मीदवार की जड़े खोदने का काम करेंगी।

कल एक वरिष्ठ भाजपा नेता से मिलने गए टिकट दावेदार ने उनसे साफ-साफ कहा कि यदि पार्टी उन्हें टिकट नहीं देगी तो वे निर्दलीय रूप से चुनाव लड़ेंगे। दूसरी ओर से जवाब दिया गया कि भाजपा जीतने वाले उम्मीदवार को टिकट देगी।