व्यापमं घोटाले की सीबीआई से निष्पक्ष जांच कराने युवा कांग्रेस ने राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन - Shivpuri News

शिवपुरी।
आज शिवपुरी कलेक्टर को युवा कांग्रेस के पदाधिकारियों ने मध्यप्रदेश में भाजपा की पिछली सरकार में हुए व्यापम घोटाला पार्ट-1 और पार्ट 2 की सीबीआई से जांच कराने की मांग को लेकर राज्यपाल ने नाम ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में बताया है कि मध्यप्रदेश में ना जाने कितने शिक्षित बेरोजगार युवाओं का भविष्य समा गया है, कितने ही नौजवानों ने पूर्व की इस त्रासदी को झेला है और ना जाने कितने ही युवाओं द्वारा अवसाद में आकर आत्महत्या तक कर ली गई है। जो बेरोजगार नौकरी कर अपने अभिभावकों का सहारा बनते, वही इस व्यापम जैसे घोटाले के कारण छिन गया है।

मध्यप्रदेश का युवा बेरोजगार अभी इसके पहली भाजपा सरकार के व्यापम घोटाले को भूला भी नहीं था कि मध्यप्रदेश में एक बार पुनः व्यापम 2.0 (पीईबी) घोटाला अजागर हुआ है, जिसकी बुनियाद प्रदेश भाजपा सरकार के केबिनेट मंत्री गोविन्द सिंह राजपूत के कॉलेज से हुआ है। प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इशारे पर उनके ओएसडी लक्ष्मण सिंह मरकाम के मोबाइल फोन से ही प्रदेश में शिक्षक वर्ग-3 परीक्षा प्रारंभ होने के पहले ही पेपर और आंसर शीट के स्क्रीनशॉट वायरल कर दिए जाते हैं।

यह सब अपने चहेते और अपात्र अभ्यर्थियों को जो परीक्षा को अपनी योग्यता से पास नहीं कर सकते, उनको फायदा पहुंचाने के लिए ही किया जाता है और परीक्षा में बैठने वाले 13 लाख युवाओं का भविष्य दांव पर लगा दिया जाता है।

दूसरी मध्यप्रदेश में व्यापम पार्ट-2.0 का फर्जीवाड़ा यहीं तक सीमित नहीं रहता, इस बंदरबांट में प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष वी.डी. शर्मा भी पूरी तरह से शामिल हैं। कृषि विस्तार अधिकारी की परीक्षा में जिन टॉप 10 उम्मीदवारों के नाम घोषित हुए हैं, वह एक ही जाति, क्षेत्र, कॉलेज के हैं और उन सबकी गलतियों भी एक समान ही हैं, यह सभी घोषित 10 टॉप उम्मीदवारों की तस्वीरें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के साथ देखी जा सकती हैं।

मध्यप्रदेश में पुलिस आरक्षकों की भर्ती में भी बड़े स्तर पर फर्जीवाड़ा हुआ है, आरक्षक भर्ती परीक्षा में जिन प्रतिभागियों को पहले योग्य घोषित कर दिया गया. बाद में उन्हीं को अयोग्य घोषित कर दिया जाता है। यह आरक्षक परीक्षा 8000 पदों के लिए वर्ष 2020 में व्यापम के माध्यम से ऑलाइन करवाई गई थी।

मध्यप्रदेश में सरकारी आंकड़े बताते हैं कि 35 लाख युवा बेरोजगार के रूप में पंजीकृत हैं, यह ऑकडा अन्य राज्यों की तुलना में सबसे अधिक है। फर्जीवाडे के कारण प्रदेश में 50-70 लाख युवा बेरोजगार हैं। मध्यप्रदेश में युवा कांग्रेस, बेरोजगारों के हित में व्यापम के इस फर्जीवाड़े के खिलाफ निर्णायक लड़ाई लडने को तैयार हैं और यह लडाई तब तक जारी रहेगी, जब तक हम उन्हें न्याय नहीं दिला देतें। यह लड़ाई व्यापम-2.0 (पीईबी) के फर्जीवाडे के फर्जीवाड़े के खिलाफ़ हैं, अभी तो यह शंखनाद है। इसे लेकर शिवपुरी में युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष अमित शिवहरे,सत्यम नायक ने अपनी टीम के साथ ज्ञापन सौंपा।