बोलते फोटो:जहां नेता वहां कोरोना नही, कोरोना प्रूफ है भाजपाई, स्वागत भीड़ में कुचल गया कोरोना- Shivpuri News

शिवपुरी।
शिवपुरी जिले में लगातार चौथे दिन कोरोना के मरीज पॉजिटिव निकलना शुरू हो गए। नए साल में 84 दिन बाद जिले का कोरोना का मरीज मिला था। उसके बाद 2 जनवरी को 3 मरीज फिर 3 जनवरी को 6 मरीज पॉजिटिव और 4 जनवरी को 12 मरीज मिले। प्रशासन कोरोना को लेकर सतर्क हो गया। स्वास्थ्य विभाग ने अपनी तैयारी शुरू कर दी है। पुलिस बे मास्क लोगों के चालान काटने शुरू कर दिए है।

देश के साथ साथ शिवपुरी शहर भी कोरोना की दो लहर झेल गया है। दूसरी लहर की कडवी यादे और जिंदा लोगो को लाश बनते इस शहर ने देखा हैं दूसरी लहर सीधे मौत की लहर थी। तीसरी लहर शुरू हो चुकी है। प्रशासन आम आदमी पर तो कार्रवाई कर रहा हैं लेकिन रसूखदारों पर कोई कार्यवाही नही है। ऐसे ही दो मामले सामने आए हैं जहां प्रशासन की कथनी और करनी में अंतर दिख रहा हैं।

नए नवेले मंत्री के स्वागत में करैरा में उमड़ा जनसैलाब:

अभी शिवराज सरकार में करैरा के पूर्व विधायक जसवंत जाटव को राज्य पशुपालन एंव कुक्कुट विकास निगम का अध्यक्ष बनाया गया हैं। जसवंत जाटव भोपाल से दिनारा होते हुए करैरा आए तो किनारा व करैरा में उनके समर्थकों ने जोरदार स्वागत किया। स्वागत से नेताजी इतने अभिभूत हुए कि खुशी के मारे चेहरे से मास्क गायब हो गया। एंव उनके समर्थक पहले ही बिना मास्क के भीड़ की शक्ल में चल रहे थे।

पोहरी के जनसैलाब में कुचल गया कोरोना

पाठ्य पुस्तक निगम के उपाध्यक्ष बनाए जाने के बाद सोमवार को प्रहलाद भारती ने पोहरी में आभार यात्रा निकाली। एक जनवरी से ही कोरोना संक्रमित मिले रहे हैं इसके बाद भी जनप्रतिनिधि शक्तिप्रदर्शन में जुटे हुए हैं। भारती की आभार यात्रा में सैकड़ों की संख्या में समर्थक जुटाए गए। यहां दो गज की दूरी तो बहुत दूर की बात है कई मौकों पर दो इंच की दूरी भी दिखाई नहीं दी। न ही नेताओं के चेहरों पर मास्क था। ऐसे में आमजन के बीच भी गलत संदेश जाता है और वे सोचते हैं कि नेताओं के लिए नियम नहीं हैं तो हम क्यों उनका पालन करें। जब जनप्रतिनिधियों को आमजन को एक उदाहरण पेश करना चाहिए तब यही लोग नियमों का मखौल उड़ा रहे हैं।

वही दूसरी ओर प्रशासन प्रतिदिन तीसरी लहर से निबटने के लिए नई नई गाइडलाइन जारी कर रहा हैं। नाईट कर्फ्यू का प्रतिबंध शुरू हो चुका हैं। मास्क अनिवार्य नही तो आपकी चालक होगा। मास्क नही लगाने वालो के लिए खुली जेल बनना शुरू हो चुकी है। जिले में धारा 144 भी प्रभावी है लेकिन सत्ता के लिए सभी नियम बोने कर दिए जाते है। अगर इस भीड में एक भी आदमी संक्रमित होगा तो शहर के लिए अच्छी खबर नही होगी।