मनोज सेसई वाले को बचाने यशोधरा राजे नहीं आईं, पत्रकार वार्ता के बीच पुलिस आ गई- Shivpuri News

शिवपुरी। स्वच्छता अभियान के तहत नगर पालिका द्वारा शुरू की गई मुहिम के पहले दिन ही नपा टीम को मिष्ठान विक्रेता मनोज गुप्ता से विवाद का सामना करना पड़ा था। चालानी कार्रवाई से खफा होकर आरोप है कि मिष्ठान विक्रेता ने समोसे से भरा थाल फेंक दिया और नपाकर्मियों से अभ्रद व्यवहार किया। जिसके परिणाम स्वरूप एक सफाईकर्मी हरिशंकर लोट की रिपोर्ट पर पुलिस ने मिष्ठान्न विक्रेता मनोज गुप्ता और शिवा फास्ट फू्ड कॉनर्र के संचालक मुन्ना राजा के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने का मामला दर्ज किया।

मामला दर्ज होने के बाद आज पत्रकारवार्ता आयोजित कर मुख्य आरोपी मनोज गुप्ता ने सफाई दी कि उन्होंने लिखित में माफी मांग ली थी। इसके बाद भी उन पर मामला दर्ज कर लिया गया। वहीं दूसरे आरोपी मुन्ना राजा का कहना है कि वह तो घटना स्थल पर ही नहीं थे और इसके बाद भी उन पर विद्वेशवश झूठी कार्रवाई कर दी गई। यह पूरा घटनाक्रम कल तब घटित हुआ था, जब प्रदेश सरकार की मंत्री और शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया के निर्देश पर नगर पालिका ने स्वच्छता अभियान के साथ-साथ अतिक्रमण विरोधी मुहिम भी प्रारंभ की।

झांसी तिराहे पर सेसई मिष्ठान्न भंडार का अतिक्रमण जब हटाना प्रारंभ किया तो संचालक मनोज गुप्ता नगर पालिका के अमले से उलझ गया और आरोप है कि वह गालियां देने लगा। मनोज गुप्ता नगर पालिका के अमले और सीएमओ को बोला कि मैं कोई ऐसा वैसा आदमी नहीं हूं। यहां अभी मुख्यमंत्री आ जाएंगे, 5 मिनिट में यशोधरा राजे को बुलाऊं क्या।

झांसी तिराहे पर अपनी दुकान के बाहर टेंट लगाकर मनोज गुप्ता नाश्ते की दुकान संचालित करते हैं। स्वच्छता अभियान के तहत जब सीएमओ अवस्थी नगर पालिका की टीम के साथ मौके पर पहुंचे तो उन्होंने देखा कि अतिक्रमण में बैंचे रखी हुई थीं और ऊपर टेंट लगा हुआ था। जिसकी कोई अनुमति नहीं थी। इसके बाद सीएमओ के निर्देश पर नगर पालिका ने जैसे ही चालानी कार्रवाई शुरू की और दुकानदार मनोज गुप्ता पर 5 हजार रूपए जुर्माने की रसीद काटनी चाही, वैसे ही मनोज गुप्ता आक्रोशित हो उठे।

उन्होंने दुकान पर रखा समोसे से भरा थाल फेंक दिया और नगर पालिका कर्मियों से विवाद कर यहां तक कहने लगे कि मैं भाजपा का नेता हूं और अभी कहो तो मुख्यमंत्री को बुलाऊं। यशोधरा राजे तो 5 मिनिट में आ जाएंगी। श्री गुप्ता ने जहां तक कहा कि शहर में मैं कोई अकेला अतिक्रामक नहीं हूं। नगर पालिका के बरामदे में दुकाने लगी हुई हैं, उन पर कोई कार्रवाई नहीं करता। लेकिन नगर पालिका अमला इस धमकी से प्रभावित नहीं हुआ और दुकानदार पर चालानी कार्रवाई कर दी गई।

अभद्रता न करने के बाद भी मैंने माफी मांगी फिर क्यों दर्ज हुआ मामला

इस मामले में मिष्ठान्न विक्रेता मनोज गुप्ता ने आज सुबह अपने प्रतिष्ठान पर पत्रकारवार्ता बुलाकर अपनी सफाई दी। उन्होंने कहा कि अतिक्रमण हटाने के लिए उन्हें कोई नोटिस नहीं दिया गया। श्री गुप्ता ने बताया कि उनकी बेटी की 28 नबंवर की शादी है और उन्हें 27 नबंवर को बांरा जाना है। इस कारण वह तनाव में थे। उसी समय सीएमओ ने 5 हजार की चालानी कार्रवाई करने की बात कही। इस पर मैंने कहा कि एकाध हजार की रसीद काट लो। लेकिन वह नहीं माने।

मैंने नगर पालिका की टीम से कोई अभद्रता नहीं की। समोसे का थाल भी मैंने अपना ही फेंका था और मैं अपने कर्मचारियों से ही गरम हो रहा था। पूरा घटनाक्रम घटित होने के बाद में नगर पालिका सीएमओ अवस्थी के घर पहुंचा और मैंने उनसे पहले मौखिक फिर लिखित में माफी मांगी। लेकिन इसके बाद भी मेरे खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया, जो कि दुर्भावनापूर्ण है और यह मेरे खिलाफ षडयंत्र है। जहां तक यशोधरा राजे सिंधिया का नाम लेने का सवाल है तो मैं भाजपा का कार्यकर्ता हूं और मैंने महाराज साहब का नाम इसी नाते लिया था। हमारे खिलाफ कोई भी गलत काम होगा तो हम उन्हीं के पास तो जाएंगे।

पुलिस के साये में हुई पत्रकारवार्ता
पत्रकारवार्ता के दौरान पुलिस मौके पर पहुंच गई और पुलिसकर्मियों ने मनोज गुप्ता से कहा कि थाने चलो। वहां तुम्हारे बयान होंगे। इस पर श्री गुप्ता घबरा गए और उन्होंने कहा कि मेरी बेटी की शादी है और तुम वहां यदि मुझे गिरफ्तार कर लोगे तो शादी कैसे होगी। इस पर पुलिसकर्मियों ने कहा कि तुम्हे गिरफ्तार करने नहीं बल्कि बयान लेने आए हैं। पुलिस को देखकर दूसरा आरोपी मुन्नाराजा पत्रकारों के बीच जाकर छिप गया। पूरी पत्रकारवार्ता के दौरान पुलिस मौके पर ही जमी रही।

इनका कहना है-
शहर में अतिक्रमण विरोधी अभियान संचालित किया जा रहा है। स्वच्छता में जो लोग सहयोग नहीं कर रहे और गंदगी फैला रहे हैं, उनके विरूद्ध कार्रवाई की जा रही है। संबंधित दुकानदार द्वारा दुकान के काफी आगे बैंचे रखीं थी और ऊपर पांडाल था। जब इन्हें हटाने और जुर्माने की कार्रवाई की गई तो दुकानदार द्वारा सहयोग नहीं किया गया। अभद्रता की तथा शासकीय कार्य में बाधा डाली। इसके लिए संबंधित दुकानदार के विरूद्ध कार्रवाई की जा रही है।
शैलेश अवस्थी, सीएमओ नगर पालिका शिवपुरी