विधिक साक्षरता मेला: महिलाओं से संबंधित अन्य विभिन्न कानूनों की दी जानकारी- Shivpuri News

शिवपुरी। आजादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत प्रधान जिला न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री विनोद कुमार के मार्गदर्शन में एवं श्रीमती अर्चना सिंह के निर्देशानुसार ग्राम कुंवरपुर में विधिक साक्षरता मेला का आयोजन किया गया।

विधिक साक्षरता मेला में ग्रामीणों को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की योजनाओं, महिला एवं बाल विकास विभाग, चाइल्ड लाइन संकल्प सामाजिक संस्था जो कि एचआईवी पीड़ितों के लिए कार्य करती है, डाक विभाग एवं स्वास्थ्य विभाग से संबंधित प्रदर्शनी लगाई गई जिसमें संबंधित विभागों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा लोगों को विभिन्न योजनाओं से संबंधित पंपलेट वितरित किए तथा संबंधित योजनाओं की विस्तार से जानकारी भी दी।

स्वास्थ्य शिविर के अंतर्गत लगभग 51 महिलाओं द्वारा स्वास्थ्य समस्याओं संबंधी शिकायतें की जिसके लिए उपलब्ध डॉक्टर द्वारा उनकी जांच कर उचित परामर्श एवं दवाइयां भी वितरित की।

महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा आंगनबाड़ी केंद्रों पर वितरित होने वाले पौष्टिक आहार स्वरूप दलिया से बनने वाले विभिन्न रेसिपी के संबंध में प्रदर्शनी लगाई गई तथा महिलाओं को बताया गया कि वह उक्त पौष्टिक दलिया से किस प्रकार लड्डू बर्फी खिचड़ी पराठा इत्यादि पौष्टिक आहार बनाकर बच्चों को दिन प्रतिदिन दे सकती हैं।

डाक विभाग द्वारा सुकन्या योजना के संबंध में लोगों को विस्तार से जानकारी दी गई। महिला एवं बाल विकास विभाग के प्रतिनिधियों द्वारा मातृ वंदना योजना लाड़ली लक्ष्मी योजना के संबंध में जानकारी दी गई।

जिला विधिक सहायता अधिकारी श्रीमती शिखा शर्मा द्वारा महिलाओं को नालसा की विभिन्न योजनाओं के संबंध में विस्तार से बताया गया कि नालसा कि प्रत्येक योजना समाज के प्रत्येक व्यक्ति को छूने का प्रयास करती है तथा शासन की ओर से उन्हें मिलने वाली सुविधाओं कौन तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है।

इसी क्रम में आज मंगलवार को विधिक साक्षरता मेला के साथ-साथ एनसीडब्ल्यू के सहयोग से महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया जिसमें लगभग 60-70 महिलाओं द्वारा सक्रिय भागीदारी की गई।

जिला विधिक सहायता अधिकारी द्वारा महिलाओं को घरेलू हिंसा बाल विवाह दहेज प्रतिषेध अधिनियम, समानता का अधिकार,रोजगार के अवसर तथा महिलाओं से संबंधित अन्य विभिन्न कानूनों की जानकारी दी। उपस्थित बालिकाओं को संविधान के अंतर्गत प्रदत्त मौलिक अधिकार, मौलिक कर्तव्य, बालकों का लैंगिक शोषण, किशोर न्याय अधिनियम एवं गुड टच बैड टच से संबंधित जानकारी दी गई।

कार्यक्रम में महिलाओं को बताया गया कि यदि महिलाएं आर्थिक रूप से सक्षम होंगी तो वे निसंदेह तौर पर सशक्त होंगी, आर्थिक रूप से निर्भर होने के लिए महिलाओं के लिए प्रथम सीढ़ी का कार्य शिक्षा करती है इसलिए समस्त महिलाओं को यह संकल्प लेना चाहिए कि वह अपनी बेटियों को पढ़ने का अवसर देंगी।

ऐसी महिलाएं जो घर में ही रह कर स्वरोजगार से जुड़ना चाहती हैं तो वह आजीविका मिशन के माध्यम से सिलाई एवं मसाले बनाने इत्यादि संबंधित कामकाज सीखकर घर पर ही पैसे कमा सकती हैं। कार्यक्रम में सीडीपीओ श्री केशव गोयल, चाइल्ड लाइन से सिटी कोऑर्डिनेटर श्री सौरभ भार्गव पीएलबी श्री योगेश शर्मा एवं श्री नीरू रावत उपस्थित थे।