सिंध अब बह रही हैं सडक पर:ठेकेदार को पेमेंट नही काम बंद,लीकेज तक नही सुधरवा रहा- Shivpuri News

शिवपुरी। सिंध को शिवपुरी तक लाने के लिए शहर वासियो को जलक्राांति जैसा आंदोलन करना पडा,जिससे पेटी में पैक हुई सिंध जलावर्धन योजना फिर से जीवित हुई,लेकिन वह अभी भी पूरी नही हो सकी है। योजना के वर्क के राइट क्रियान्वयन न होने के कारण सिंध अब सडको पर बहने लगी हैं।


शहर में सिंध की लाईने लगातार लीकेज कर रही हैं और सडक पर पानी लगातार फैल रहा है। ठेकेदार ने पेमेंट न होने की घोषणा करते हुए काम बंद कर दिया हैं अब लीकेज भी नही सुधरवा रहा हैं। ऐसे में शहर वासी परेशान हैं।

शहर में लाईन बिछाने का काम लगभग पूरा,लीकेज बनी समस्या

अमृत योजना के तहत डिस्ट्रीब्यूशन लाइन बिछाने का कार्य स्वीकृत हुआ है। नगर पालिका द्वारा 90 फीसदी हिस्से में डिस्ट्रीब्यूशन लाइन बिछवा ली है। लेकिन भुगतान की बारी आने पर बिल प्रशासनिक स्तर पर रुके हुए हैं। ठेकेदार शेष लाइन बिछाना तो दूर लीकेज ठीक कराने लेबर नहीं भेज रहा है।

नगर पालिका भी हताश होकर हाथ पर हाथ धरी बैठी है। ऐसे में प्रशासनिक अधिकारी भी अपनी भूमिका का निर्वहन नहीं कर रहे हैं। सिंध जलावर्धन योजना के घटिया काम से शिवपुरी शहर की जनता पहले से ही खासी नाराज हैं। अब डिस्ट्रीब्यूशन लाइन के लीकेज बंद नहीं होने से पानी की बर्बाद लोगों को खटक रही है।

फतेहपुर पर सिंध सडको पर

फतेहपुर में पुलिस चौकी के सामने तिराहे पर लाइन लंबे समय से फूटी है। टंकी से दक्षिणी हिस्से में पानी छोड़ते ही भारी मात्रा में पानी फैलने लगाता है। पार्क के किनारे वाले हिस्से से सप्लाई के दौरान हजारों लीटर पानी सड़क पर बह रहा है। आगे जाकर सरस्वती विद्यापीठ स्कूल के आगे भी पाइप लाइन फूटी है। सप्लाई छोड़ते ही यहां भी काफी मात्रा में पानी फैल रहा है।

पिपरसमां रोड पर सीएमएचओ ऑफिस के सामने हर बार पानी भर जाता है। ऑफिस जाने वाले रास्ते में पानी भरा रहा है। साथ ही नाली के साथ सड़क का हिस्सा भी डूब जाता है। स्थानीय लोगों ने बताया कि बाइक सवार और कार नाली में फंस जाते हैं। कभी भी गंभीर हादसा हो सकता है।

कम गहराई पर पाइप लाइन बिछाने को लेकर मामला उलझा
डिस्ट्रीब्यूशन पाइप लाइन कम गहराई पर बिछाने को लेकर प्रशासनिक स्तर पर मामला उलझा हुआ है। इसी को लेकर नगर पालिका से कलेक्टोरेट भेजे बिल रुके हुए हैं। भुगतान नहीं होने से ठेकेदार काम करने तैयार नहीं है। ठेकेदार का तर्क है कि 17 नवंबर 2021 को नगरीय विकास एवं आवास विभाग के प्रमुख सचिव ने निर्माण कार्यों को लेकर निर्देश जारी किए हैं।

जिसमें स्पष्ट किया है कि यूटिलिटी लाईन किस गहराई पर बिछाना है, यह उसके प्रकार पर निर्भर करती है। लेकिन किसी भी अवस्था में इसकी गहराई 0.6 मीटर से कम नहीं होनी चाहिए और सीवर लाईन स्थल की टोपोग्राफी के अनुसार 1.5 मीटर या इससे अधिक गहराई पर बिछाना चाहिए।

काम गलत लग रहा है तो जांच करा लें
निर्धारित मापदंडों के आधार पर अलग-अलग क्षेत्रों में निश्चित गहराई पर डिस्ट्रीब्यूशन लाइन बिछाई है। जहां जितनी गहराई पर लाइन बिछी है, उसी के अनुसार बिल बनाकर भुगतान के लिए दिया है। यदि अधिकारियों को काम गलत लग रहा है तो जांच करा लें।
राकेश गिरी , ठेकेदार, जेएम बगासिया

पाइप लाइनें ठीक कराने ठेकेदार से कहेंगे

फूटी पाइप लाइनें ठीक कराने के लिए ठेकेदार से बात कर रहे हैं। कलेक्टोरेट कार्यालय में बिल भुगतान की फाइल रुकी है। इस संबंध में अपर कलेक्टर से चर्चा करेंगे। यदि गड़बड़ी है तो कार्रवाई करेंगे। पानी फैलने वाली समस्या का समाधान निकालने की कोशिश कर रहे हैं।
शैलेष अवस्थी, सीएमओ, नगर पालिका शिवपुरी