कोलारस में खुलेआम कट रहे है जंगल, रक्षक बने बैठे है भक्षक, रेंजर शुक्ला का खुला संरक्षण- kolaras News

कोलारस। इन दिनों कोलारस फोरेस्ट क्षेत्र माफियाओं का गढ बना हुआ है। यहां खुलेआम माफिया फोरेस्ट की जमींन पर अतिक्रमण कर रहे है। हालात यह है कि जिनपर वनों की रक्षा की जिम्मेदारी है वह आंखे बंद कर तमाशबीन बने हुए है। जिसके चलते कोलारस विधायक को स्वयं सामने आना पडा है। अब सबाल उठता है कि अगर विधायक जी ही इन्हें देखेंगे तो फिर जिम्मेदारों को किस बात की सैलरी सरकार दे रही है।

विदित हो कि कोलारस क्षेत्र अंतर्गत आने वाले वन परिक्षेत्र मे विभाग के अफसरों की कोताही के चलते धड़ल्ले से वन विभाग की जमीन पर जुताई की जा रही है। बेखबर विभाग वन माफिया, तस्कर और अतिक्रमण कारिओ पर शिकंजा कसने मे नाकाम साबित हो रहा है। कोलारस वन विभाग के अंतर्गत आने वाले ग्राम भडौता, टीला,टामकी,बैडारी, तेंदुआ ढकरोरा बेरसिया सरजापुर गुड़ा, सनवारा वन विभाग की भूमि को दिन रात ट्रेक्टर से जोत रहे है।

लेकिन हैरानी की बात यह है कि वन अमला अतिक्रमणकारियों पर चुप्पी साधे बैठे है कार्यवाही महज कागजो तक सीमित है। कोलारस वन क्षेत्र के रेंज मैं खुलेआम अतिक्रमण से परेशान स्थानीय लोगों ने वन परीक्षेत्र अधिकारियों पर मिलीभगत का आरोप लगाया है ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि रेंज की भूमि में अतिक्रमणकारी बेखौफ होकर रेंज की बेशकीमती जमीन पर धड़ल्ले से ट्रैक्टर चलाकर जमीन जोत रहे हैं। लेकिन वन विभाग मौन बैठा हुआ है। ग्रामीणों का आरोप है कि रेंजर कृतिका शुक्ला की मिलीभगत से यह काला कारनामा जारी है।