मानवता शर्मसार: आदिवासी की लाश ले जाने बाबू ने डीजल की डिमांड की - Shivpuri News

शिवपुरी। मानवीय संवदेनाओ को शून्य करने वाली खबर जिला चिकित्सालय शिवपुरी से आ रही हैं कि रोड एक्सीटेंड में मौत हुए युवक की लाश को घर वापस ले जाने के लिए जिला चिकित्सालय के एक बाबू ने वाहन उपलब्ध नही कराया। जब परिजनो ने आग्रह किया तो डीजल के पैसो की डिमांड कर दी। परिजनो ने सीधे पिछोर के विधायक को फोन लगा दिया ओर अपनी पीडा बताई। पिछोर विधायक ने कहा में अभी अपना वाहन भिजवाता हूं। इसके बाद बताया जाता है कि बाबू को अपनी गलती का अहसास हुआ तो उसने तुंरत आनन फानन में सरकारी गाडी की व्यवस्था कर दी।

बताया जा रहा है कि घायल हरनारायण उम्र 18 वर्ष पुत्र प्रकाश आदिवासी निवासी बरबटपुरा तहसील खनियाधाना ने बुधवार की सुबह जिला अस्पताल चौखट पर दम तोड़ दिया। शव पीएम हाउस भिजवा दिया और पीएम के बाद शव घर ले जाने की व्यवस्था नहीं हुई। अस्पताल चौकी प्रभारी ने कई बार सूचना भिजवाई तो अस्पताल का बाबू मोहन आया और कहा कि रिकार्ड में नहीं है, इसलिए गाड़ी नहीं भिजवा सकते।

पुलिस ही गाड़ी की व्यवस्था करे। फिर बाबू ने कहा कि डीजल परिजन डलवा दें तो गाड़ी भेज देंगे। चौकी के बाहर खड़े मृतक के परिजनों को बुरा लगा और सीधे पिछोर विधायक को फोन लगाकर अपनी पीड़ा बताई। शव घर भिजवाने के लिए विधायक ने अपने स्तर पर निजी वाहन की व्यवस्था कराने की कह दी। बाबू मोहन को गलती का एहसास हुआ और गाड़ी भेज दी। पीएम के करीब ढाई घंटे बाद परिजन शव लेकर रवाना हो पाए। परिजनों का कहना है कि बाबू की हठधर्मिता की वजह से उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं यदि विधायक डीजल डलवा देता तो सरकार की किरकिरी होना लाजमी था।

भंडारे में जाते वक्त हादसा हुआ, तीन अन्य युवक घायल

हादसे में हरनारायण आदिवासी की मौत हो गई जबकि तीन अन्य संग काशीराम उम्र 15 वर्ष पुत्र पर्वत आदिवासी बलराम 14 वर्ष पुत्र ओमकार आदिवासी और राजेश उम्र 18 वर्ष पुत्र हरिराम आदिवासी निवासी पुरा मायापुर घायल है। तीनों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। हादसा मंगलवार की शाम अचरौनी पेट्रोल पंप के पास हुआ है। चारों युवक भंडारे में शामिल होने दो बाइकों से जा रहे थे, तभी सामने से आई लोडिंग पिकअप ने दोनों बाइक में टक्कर मार दी थी।