वैक्सीनेशन कराने बुलाए दर्जनों गांव के लोग ,अस्पताल से धुत्कार कर भगा दिया - kolaras News

कोलारस। जिले के नगर परिषद रन्नौद स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर वैक्सीन नहीं मिलने से नाराज लोगों ने अस्पताल परिसर में प्रदर्शन करने लगे प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया है कि लोगों को वैक्सीन देने में अस्पताल प्रबंधन मनमानी कर रहा है। ऐसे में लोगों को बारिश के मौसम में टीका के लिए अस्पताल आने के बाद भी बैरंग लौटने को विवश होना पड़ रहा है।

जानकारी के अनुसार आज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर वेक्सिनेशन कराने आये लोगो ने प्रदर्शन कर बबाल खड़ा कर दिया प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि बारिश के मौसम में भी दर्जनों लोग वैक्सीन लगवाने शनिवार को अस्पताल परिसर में पहुंचे थे। यहां लोगों के पहुंचने के बाद स्वास्थ्य कर्मियों ने वैक्सीन नहीं होने की बात कहकर उन्हें घर लौटने को कहा।


प्रदर्शनकारियों ने बताया कि अगर अस्पताल प्रबंधन की ओर से पहले ही इसकी जानकारी दे दी गई होती तो लोगों को परेशान नहीं होना पड़ता। दूरदराज के ग्रामीण इलाकों से लोग वैक्सीन लगवाने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र रन्नौद में जैसे तैसे पहुंच रहे हैं। लेकिन अस्पताल के कर्मियों द्वारा उनकी अनदेखी की जा रही है।

इनका कहना है
आपके द्वारा बताया कि अस्पताल में वैक्सीन लगवाने लोग आए थे, उन्हें भगा दिया गया ,हमने पता किया आज वेक्सिनेशन केम्प लगना ही नही था किसी ने गलत जानकारी दी ,सोमवार को वेक्सीन लगेगी
डॉक्टर आकाश यादव प्रबंधक उपस्वास्थ्य केन्द्र रन्नौद

हमे वेक्सीन ब्लॉक बदरवास से भेजी नही गई है हमे समय पर वेक्सीन ओलर्ड की जाती तो हम समय पर वेक्सिनेशन करा सकते थे , गांव के लोगो परेशानी हुई हम क्षमा चाहते है प्रयास रहेगा कि आगे ऐसी दिक्कत पैदा न हो।
डॉ नितिन श्रीवास्तव रन्नौद

हमें अस्पताल वालो ने बोला था कि शनिवार को रन्नौद आना है वेक्सीन लगने अब हमें भला बुरा कह कर भगा दिया , सरकार हम गरीब को ऐसे ही परेशान करबाने वेक्सीन लगबा रही, धमकी दी थी बेक्सिनेशन नही कराओगे तो कछु नही मिलेगा इस लिए काम धाम छोड़ कर आ गए वेक्सीन नही लगी गांव में ही लगे तभी लगबा सकेंगे।
राम प्यारी आदिवासी,निवासी बेदमऊ

हम वेक्सीन कराने आये थे, अब अस्पताल वाले कह रहे यहां नही लग रही आज हम गरीबो को परेशान करने का ठेका ले रखा है सबने।
दशरत आदिवासी

हमे शनिवार के दिन बुलाया था वेक्सीन लगबाने अब वेक्सीन न होने का बहाना बना कर भगा दिया ,कोई सुनने वाला नही।
कलाबती बाई,निवासी माडा गणेश