खनियांधाना में आधार कार्ड के नाम पर लूट, 500 रूपए तक वसूल रहा है ऑपरेटर, रूपए वसूलने का VIDEO वायरल

शिवम पाण्डेय खनियाधाना। सरकार द्वारा आधार की अनिवार्यता पर मुहर लगाने के बाद इसे बनाने को लेकर लोगों में आपा धापी की स्थिति बनी हुई है। इसी का फायदा कुछ लोग जमकर उठा रहे है खनियाधाना में आधार कार्ड बनाने में अवैध वसूली का धंधा शुरू हो गया है नगर में बन रहे आधार कार्ड केंद्रों पर आधार कार्ड बनाने वाले ऑपरेटर आने वाले लोगों से आधार कार्ड बनवाने के एवज में 500 रुपए से लेकर 1000 रुपए तक की अवैध वसूली कर रहे है।

इतना ही नहीं नया आधार कार्ड बनाना हो या पहले से बने आधार कार्ड में संशोधन कराना है इन ऑपरेटर दलालों के माध्यम से जमकर हजारो रुपये वसूली की जा रही है। लोगों से हजार से पांच सौ रुपये वसूले जा रहे हैं। आधार कार्ड बनवाने आए लोगों ने बताया कि खनियाधाना में आधारकार्ड बनने वालों की जेब पर खुलेआम डाका डाला जा रहा है। कारण है कि उनका कोई सुनने वाला नहीं है। मनमानी का आलम यह है कि नगर में जहां-जहां भी आधार कार्ड बन रहे वहां अब भी धड़ल्ले से मुंह मांगा पैसा लेकर आधार बनाया जा रहा है।

आरोप है कि नगर में जहां कही भी आधार कार्ड बन रहै है वहा पर आधार कार्ड बनाने के नाम पर पॉच सौ से लेकर 1000 रुपये तक वसूल किया जा रहा है। जबकि सरकार द्वारा इसे मुफ्त में बनाने का फरमान जारी किया गया है। लोगों का कहना है कि शिकायत पर प्रशासन द्वारा संज्ञान न लेने से ऐसे लोगों को मनोबल बढ़ा हुआ है।

बलराम पाल नामक युवक ने लागये गंभीर आरोप

खनियाधाना निवासी बलराम पाल पुत्र हरभजन पाल ने सोशल मीडिया फेसबुक व्हाट्सएप पर एक पोस्ट अपडेट करते हुए बताया कि वह जनपद कार्यालय के पास वार्ड क्रमांक 02 खनियाधाना का निवासी है। दोपहर 01:15 को में जनपद पंचायत कार्यालय स्थित आधार सेंटर पर अपनी 5 वर्षीय पुत्री कु. ऋषिका पाल का आधार पंजीयन हेतु गया था। वहां जाकर देखा तो उक्त सेंटर पर 2 कर्मचारी आधार बनाने का काम कर रहे थे।

पीडित ने आरोप लगाते हुए बताया है कि उसके अलावा और लोग भी आधार का पंजीयन करवा रहे थे या उसमें सुधार के लिए आये थे। सभी दस्तावेज लेने के बाद और फिंगरप्रिंट और रेटिना स्कैन करने के बाद आधार पंजीयन की प्रक्रिया लगभग समाप्त होने वाली थी, मुझसे 200 रुपये देने को कहा गया। मैंने कहा यह तो बहुत ज्यादा हैं। पहली बार पंजीयन तो निःशुल्क होता है, फिर भी रुपये लग रहे हैं तो मुझे रशीद दीजिए। मुझसे कहा गया कि रशीद नहीं मिलेगी, और फ्री में आधार कॉर्ड का काम नहीं होगा।

इस दौरान पीडित ने अपने फोन से वीडियो रिकॉर्डिंग कर ली थी, क्योंकि अभी 1 सप्ताह पहले मेरी पत्नी जब मेरे पुत्र लवकुश पाल का पंजीयन कराने गयी थी तब 200 रुपये इन्होंने ले लिए थे। कुछ लोगों को मैंने देखा जो मुझसे पहले आये थे, वह भी पैसे दे रहे थे। मैंने उनसे कहा भी में हाथ जोड़कर विनती कर रहा हूँ मैं बिना रशीद के पैसे नहीं दूंगा। और मैं बिना पंजीयन की रशीद के बिना ही कार्यालय से बाहर आ गया।

जिम्मेदारों के संरक्षण में होती है अवैध वसूली

खनियाधाना आधार केंद्र पर हो रही वसूली किसी से छिपी नहीं है यहां जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा प्राइवेट कटर लगाकर अवैध वसूली की जाती है ये इतने दबंग है कि किसी से ही भीड़ जाते हैं पैसे ना देने पर लड़ाई करने करने पर उतारू हो जाते

कई बार लोगों को डायल 100 पर देनी पड़ती है सूचना

बीते दिनों खनियाधाना तहसील कार्यालय जनपद कार्यालय बस स्टैंड पर बनाई जा रही आधार कार्ड सेंटरों पर अवैध वसूली के कारण लड़ाई झगड़ों का माहौल उत्पन्न हुआ जहां पर लोगों द्वारा बचाव के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा।