शिक्षक संघ: कोरोना योद्धा और अनुकंपा नियुक्ति को लेकर सीएम को सौंपा ज्ञापन- Shivpuri News

बदरवास। नवीन शिक्षक संवर्ग की विभिन्न मांगों को पूर्ण कर निराकरण कराने के लिए प्रादेशिक आव्हान पर प्रांतीय शिक्षक संघ संयुक्त मोर्चा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम संवोधित ज्ञापन बदरवास तहसीलदार डॉ दिव्यदर्शन शर्मा को सौंपा और अपनी लंवित मांगों को सहानुभूतिपूर्वक शीघ्र पूरा करने की मांग की।

शिक्षक संघ के ज्ञापन में बताया गया कि नवीन शिक्षक संवर्ग की अनेक समस्याएं और मांगें लंवित हैं उन्हें पूर्ण कराने के लिए तीन चरणों में आंदोलन किया जा रहा है जिसमें प्रथम चरण में 17 जुलाई को प्रदेश के सभी विकासखंड मुख्यालयों पर मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिए गए।

द्वितीय और तृतीय चरण में क्रमशः जिला और प्रदेश स्तर पर आंदोलन कार्यक्रम होंगे। नवीन शिक्षक संवर्ग की विभिन्न लंवित मांगों के संबंध में बदरवास तहसीलदार डॉ दिव्यदर्शन शर्मा को प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री के नाम सौंपे गए ज्ञापन में उल्लेखित विभिन्न मांगों पर माननीय मुख्यमंत्री से सहानुभूतिपूर्वक विचार कर पूरा करने की मांग की गई।

ज्ञापन कार्यक्रम में प्रांतीय शिक्षक संघ के बरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष गोविन्द अवस्थी, मनीष बैरागी, कपिल परिहार, जितेंद्र शर्मा, कुलदीप ग्वाल, भानुप्रताप यादव, जगन्नाथ जाटव, आनंद शर्मा, सत्येंद्र सिंह, कमलसिंह कुशवाह, रामकुमार कौरव, उमाशंकर यादव, राजेश ओझा सहित बड़ी संख्या में शिक्षक शामिल रहे।

ज्ञापन में शिक्षक संवर्ग की ये हैं प्रमुख मांगें-

नवीन शिक्षक संवर्ग को वर्ष 2020 एवं 2021 की दो वार्षिक वेतनबृद्धि इसी माह से लागू की जाएं। प्रदेश में कर्मचारियों के लंवित मंहगाई भत्ते को केंद्र के समान भुगतान किया जाए। 12 वर्ष के सेवा पूर्ण कर चुके अध्यापक शिक्षकों को प्रथम नियुक्ति दिनांक से मान्य कर क्रमोन्नति का लाभ दिया जाए। अंशदायी पेंशन के स्थान पर पुरानी पारिवारिक पेंशन लागू की जाए। अध्यापक संवर्ग से शिक्षक संवर्ग में नियुक्त हो चुके शेष शिक्षकों को एम्प्लाई कोड जारी किये जायें।

मप्र राज्य स्कूल सेवा से वंचित अध्यापकों को नवीन संवर्ग के आदेश जारी किये जायें। स्थानांतरण प्रक्रिया का सरलीकरण करते हुए ऑनलाइन ट्रांसफर किये जायें। सातवे वेतनमान के एरियर्स की द्वितीय किश्त का शीघ्र भुगतान किया जाए। कोरोना महामारी में दिवंगत हुए शिक्षकों के परिवारजनों को नियम शिथिल कर अनुकंपा नियुक्ति दी जाए।

कोरोना ड्यूटी करते हुए दिवंगत शिक्षकों को कोरोना योद्धा मानते हुए उसका लाभ दिया जाए। कोरोना काल में शिक्षकों द्वारा की गई ड्यूटी को अर्जित अवकाश मान्य कर आदेश जारी किए जाएं।