CEO शैलेन्द्र आदिवासी का नया कारनामा,खुन्नस के चलते लगा रहे है शिविर, शिकायत - Shivpuri News

शिवपुरी। खबर जिले के पोहरी अनुविभाग से आ रही है। जहां जनपद पंचायत में पदस्थ सीईओं ने जब से पोहरी का चार्ज संभाला है वह सुर्खियों में रहे है। चाहे मामला मंत्री के भाई के साथ गाली गलौच का हो चाहे वह मामला फोन पर पंचायत सचिव को धमकानें का हो। पोहरी में इन दिनों हालात यह है कि यहां विना चढाबा के कोई भी फाईल एप्रूप नहीं होती। अगर कोई विरोध करता है तो फिर सीईओं उनपर अनैतिक दबाव बनाने लगते है।

ऐसा ही मामला आज प्रकाश में आया है जब पंचायत सचिव और सीईओं के बीच की बातचीत का आॅडियों बायरन होने के बाद अब सीईओं ने पंचायत सचिव को रडार पर ले लिया है। जिसके चलते अब सीईओ पंचायत सचिव पर अनैतिक दबाव बनाने लगे है। दबाव भी ऐसा जो किसी भी अधिकारी को गले नहीं उतर रहा है। जिसके चलते सरपंच ने इस मामले की शिकायत जिला पंचायत सीईओ से की है।

दरअसल बीते दिनों शोसल मीडिया पर एक वीडियों बायरल हुआ था। जिसमें पोहरी जनपद पंचायत सीईओ अपने अधीनस्थ सहायक सचिव महेश धाकड से फोन पर बात करते हुए उनपर अनैतिक दबाव बनाते हुए सुनाई दे रहे थे।

यह मामला शोसल मीडिया पर बायरल हुआ तो इस मामले की जांच जिला पंचायत सीईओं ने की और मामले को दबाने के लिए सीईओ को क्लीन चिट दे दी। क्लीन चिट मिलते ही अब सीईओ ने इस पंचायत को अपने रडार पर ले लिया और विना अधिकारीयों की जानकारी के ग्राम पंचायत धौरियां का पैमेंट रोक लिया।

इतना ही नहीं सीईओं इस इस मामले में अपनी खुन्नस निकालने बिना अधिकारी की जानकारी के एक मात्र पंचायत में चौपाल कार्यक्रम का आदेश जारी कर दिया। अब पूरे जिले में महज एक पंचायत में चौपाल कार्यक्रम का आदेश जारी होना अपने आप में बडा मुदृदा है। जिसे लेकर आज ग्राम पंचायत धौरिया के सरपंच उम्मेद खंगार ने सीईओं को आवेदन देते हूुए कहा है कि उन्हें जिला पंचायत सीईओ जबरन परेशान कर रहे है।

सरपंच ने आरोप लगाते हुए बताया है कि उसकी पंचायत में जातिगत समीकरण के आधा से उसकी पंचायत की शिकायत दर्ज कराई जा रही है।इससे पहले के सचिव भी सीईओ शैलेन्द्र आदिवासी भी पूर्व पंचायत सचिव की जाति के है। इतना ही नहीं सरपंच का आरोप है कि कई महिनों से सीईओ ने उनकी पंचायत की फाईलें रोक दी है। जिसके चलते उ