पिछड़ा वर्ग के 27 मंत्रियों को शामिल करने पर आयोजित प्रेस बार्ता में नहीं पहुंचे मंत्री सुरेश राठखेडा - Shivpuri News

शिवपुरी। केन्द्रीय मंत्रिमंडल विस्तार में पिछड़ा वर्ग के 27 मंत्रियों को शामिल करने पर भाजपा इसे चुनावी मुुद्दा बना रही है और इसीलिए प्रदेश में जिला स्तर पर पत्रकारवार्ता आयोजित कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त किया जा रहा है।

लेकिन शिवपुरी में भाजपा जिला संगठन द्वारा आयोजित पत्रकारवार्ता में जिले के मंत्री सुरेश राठखेड़ा नहीं पहुंचे। श्री राठखेड़ा स्वयं पिछडे वर्ग के है और पत्रकारवार्ता में सूचना के दौरान यह बताया गया था कि पत्रकारवार्ता लोकनिर्माण राज्यमंत्री सुरेश राठखेड़ा लेंगे। इस संबंध में जब पत्रकारों ने जिलाध्यक्ष राजू बाथम से सवाल किया तो उनका कहना था कि स्वास्थ्य खराब होने के कारण श्री राठखेड़ा नहीं आए।

पत्रकारवार्ता में भाजपा जिलाध्यक्ष राजू बाथम, भाजपा पिछड़ा वर्ग के पदाधिकारी धनपाल यादव, नरोत्तम रावत, जंडेल सिंह गुर्जर आदि उपस्थित थे। पत्रकारवार्ता में जिलाध्यक्ष राजू बाथम ने बताया कि नव गठित केन्द्रीय मंत्रिमंडल मेें पिछड़ा वर्ग समाज के 27 सांसदों को मंत्री पद प्रदान कर जनहितकारी कार्य किया है।

जिलाध्यक्ष श्री बाथम ने बताया कि भारत मेें 62 प्रतिशत जनसंख्या पिछड़ा वर्ग समाज से आती है और अभी तक किसी भी सरकार ने देश के अंदर रहने वाले पिछड़ा वर्ग समाज की चिंता नहीं की। केवल उन्हें वोट बैंक समझा। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने देश में निवासरत प्रत्येक जाति धर्म के लोगों की समान चिंता की।

हमारे देश के प्रधानमंत्री ने महसूस किया कि जनसंख्या के अनुपात में पिछड़ा वर्ग को समूचित प्रतिनिधित्व नहीं मिल पाया है। तब मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में वर्ष 2017 में 123वां संविधान संशोधन विधेयक संसद में प्रस्तुत कर राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग के गठन को मंजूरी प्रदान की। साथ ही समाज को संवैधानिक दर्जा प्रदान किया। दूसरे कार्यकाल में ओबीसी के 27 सांसदों को प्रधानमंत्री मोदी ने मंत्री बनाया। जिनमें 5 कैबिनेट और 22 राज्यमंत्री हैं।