मानसून से पूर्व ली कलेक्टर ने आपदा प्रबंधन की बैठक,पढिए क्यो दिए निर्देश - Shivpuri News

शिवपुरी। किसी भी आपदा के बेहतर प्रबंधन के लिए यह आवश्यक है कि उसका पूर्वानुमान लगाया जाए और उसके अनुसार सुरक्षात्मक उपाय एवं जरूरी संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित कर ली जाए। किसी आपदा से निपटने के लिए सूचना तंत्र मजबूत होना चाहिए जिससे आपदा के समय जरूरत होने पर तत्काल संपर्क किया जा सके। यह बात कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने बैठक के दौरान कही।

आपदा प्रबंधन की तैयारियों के संबंध में मंगलवार को बैठक आयोजित की गई। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एच.पी.वर्मा, अपर कलेक्टर उमेश शुक्ला, एसडीएम, तहसीलदार, होमगार्ड कमांडेंट, सीएमओ और संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने समस्त एसडीएम को निर्देश भी दिए हैं कि अपने क्षेत्र में हॉटस्पॉट चिन्हित करें और किन संसाधनों की आवश्यकता है इसका भी पूर्वानुमान रखें। अभी बरसात का समय भी आने वाला है इसलिए जलप्रपात, जर्जर पुल, जलभराव के स्थल, पर्यटक स्थल जहां पहले कोई आपदा घटित हुई थी।

आदि पर ड्रॉप गेट और साइनबोर्ड लगाए जाएं। होमगार्ड कमांडेंट को भी निर्देश दिए हैं कि जिला मुख्यालय के साथ ही सभी तहसीलों में प्रशिक्षित टीम होना चाहिए। सभी तहसीलों में होमगार्ड सैनिक और तैराक की ड्यूटी लगाएं।

मॉक ड्रिल से सीखें आपदा प्रबंधन

सभी एसडीएम को निर्देश दिए हैं की संभावित क्षेत्र, जो आपदा प्रबंधन के हॉट स्पॉट हैं, वहां मॉक ड्रिल का आयोजन करें। इससे आपदा प्रबंधन की स्थिति का अनुमान लगेगा और जो संसाधन की जरूरत पड़ेगी वह पहले से ही उपलब्ध होंगे।

तहसील स्तर पर भी कंट्रोल रूम बनाएं

बैठक में समस्त एसडीएम को तहसील स्तर पर भी कंट्रोल रूम बनाने के निर्देश दिए हैं जिससे कि किसी भी आपदा की स्थिति में लोग तत्काल संपर्क कर सकें और वहां टीम को भेजा जा सके।

CMO को निर्देश, नालों की सफाई कराएं

बैठक में उपस्थित सभी सीएमओ को निर्देश दिए गए हैं कि अब मानसून आने वाला है और बरसात के समय में नालों में कचरा आदि होने के कारण जल निकासी नहीं हो पाती है जिसके कारण जलभराव की समस्या होती है इसलिए बरसात से पहले ही नालों की सफाई कराएं।