कोरोना काल में स्वास्थ्य सेवाओ पर संकट: संविदा कर्मचारी हडताल पर ,यह सेवाएं होंगी प्रभावित - Shivpuri News

शिवपुरी। कोरोना के आपातकाल में स्वास्थय सेवाओ पर संकट मंडराने लगा हैं,क्यो की स्वास्थय के रीड कहे जाने वाले संविदा स्वास्थय कर्मचारी प्रदेश स्तर के आहवान पर आज से हडताल पर चले गए है। इससे कई प्रकार की स्वास्थय सेवाए प्रभावित होंगी। हालांकि कोरोना महामारी को देखते हुए प्रदेश स्तर पर स्वास्थ्य विभाग और संविदा कर्मचारियों के मध्य वर्ता के दौर प्रारंभ हो गए हैं।

संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष विवेक पचौरी ने जानकारी देते हुए बताया कि स्वास्थ्य विभाग सहित जिला प्रशासन को संविदा कर्मचारियों की समस्याओं से अवगत कराते हुए दिनांक 23 मई 2021 तक समाधान किए जाने का अनुरोध कर हडताल का अलटीमेंट दिया था, लेकिन विभाग द्वारा समय सीमा में निर्णय न किए जाने से हडताल की स्थिति निर्मित हुई है।

विवेक पचौरी ने कहा कि कोरोना जैसे महामारी के समय में संविदा कर्मचारी भी हडताल नही चहाते है, लेकिन पिछले कई बर्षो से लगातार प्रयास करने के बाद भी राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन इस ओर ध्यान नही दे रहा है। इस कारण कर्मचारियों को हडताल के लिए बाध्य होना पड रहा है।

शिवपुरी जिले में कोविड वैकसीनेशन,रेगुलर बैकसीनेंशन सहित स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हुई है। फिर भी कर्मचारियों को कोविड में लगे संविदा कर्मचारियों को मानवता के आघार पर एक दिवस हेतु दिनांक 24 मई 2021 तक सेवाएं जारी रखने का आग्रह किया है

यदि शासन ने शीघ्र संविदा कर्मचारियों की मांगों की ध्यान नही दिया तो उन कर्मचारियों को भी काम से विमुक्त किया जाएगा। जिससे आगामी दिवस से समस्त स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित होंगी जिसकी समस्त जबावदेही मध्य प्रदेश सरकार की होगी।

संविदा कर्मचारियो की मुख्य मांग वेतन को लेकर हैं संघ ने मांग की थी कि मध्य प्रदेश में कार्यरत सभी संविदा कर्मचारियों को 5 जून 2018 की नीति के अनुसार नियमित कर्मचारी के वेतनमान का न्यूनतम90 प्रतिशत हो। समस्त निष्काशित एंव सपोर्ट स्टाफ कर्मचारी जिन्है आउट सोर्स ऐंजेंसी के कर दिया गया हैं उनकी तत्काल राष्ट्रीय स्वास्थय मिशन मध्यप्रदेश में वापसी की जाए।

यह सेवाए होगी प्रभावित
बताया जा रहा है कि अगर यह हडताल आगे चलती हैं तो सबसे अधिक असर कोरोना की वैक्सीनेशन पर होगा। आईशोलन वार्डो में सबसे अधिक कर्मचारी संविदा के हैं,डिलेवरी प्रभावित होंगी,कोरोना वार्ड में ड्यूटी कर रहे संविदा डॉक्टर अपनी सेवाए नही देगें। सबसे अधिक प्रभाव ग्रामीण क्षेत्रो में होगा क्यो की संविदा के कर्मचारी सबसे अधिक ग्रामीण क्षेत्र में ही हैं