कोरोना किलर मशीन को करेगा RVRSCD ट्रस्ट करेगा अस्पताल को दान,पढ़िए यह मशीन कैसे वायरस को करती हैं किल - Shivpuri News

शिवपुरी। राजमाता श्रीमंत विजयाराजे सिंधिया सेंटर फॉर डवलपमेन्ट जिला अस्पताल शिवपुरी में विरोनिल कॅरोना किलर मशीने डोनेट कर स्थापित करेगा। 1250 स्क्वायर फ़ीट के तीन आईसीयू में वायरस को खत्म करने वाली इस तकनीक को 2 जून को वरिष्ठ कोविड प्रभारी मंत्री यशोधराराजे सिंधिया जनता को समर्पित करेंगी।

विरोनिल कॅरोना किलर यानी वैक्टीरिया फंगस व कोविड वायरस को खत्म करने के लिए अमेरिकन तकनीक से निर्मित मशीन, पहली बार मध्य प्रदेश में शिवपुरी जिला अस्पताल के 3 आईसीयू में कोरोना महामारी पर नियंत्रण पाने के लिए राजमाता श्रीमंत विजयाराजे सिंन्धिया ट्रस्ट द्वारा डोनेट कर स्थापित की जा रही है।

ट्रस्ट की चेयरमैन यशोधराराजे सिंधिया जी को जब वायरस को खत्म करने वाली इस बाइपोलर आइनाइजेशन तकनीक का पता चला तो उन्होंने इसे ट्रस्ट के माध्यम से सबसे पहले शिवपुरी में लगाने का निर्णय लिया व श्री अक्षय भंसाली जी को इसकी जानकारी के लिए निर्देशित किया।

चूंकि अक्षय भंसाली जी इस अमेरिकन तकनीक से पहले से ही परिचित थे तो उन्होंने विरोनिल कंपनी मैनेजमेंट व टेक्निकल टीम के साथ डॉ राजकुमार ऋषीश्वर सिविल सर्जन व डीन मेडिकल कॉलेज डॉ अक्षय निगम के साथ ऑन लाइन मीटिंग कर विस्तृत चर्चा की।सिविल सर्जन जिला अस्पताल में इसके इंस्टालेशन को लेकर काफी उतसाहित थे क्योंकि इस महामारी में इसकी उपयोगिता उन्हें साफ साफ समझ आ गई थी।

शीघ्र ही कंपनी की टेक्निकल टीम व मशीनें शिवपुरी पहुंच रही है व 2 जून को माननीय विधायक शिवपुरी एवं वरिष्ठ मंत्री कोविड जिला प्रभारी श्रीमंत यशोधराराजे सिंधिया जी के द्वारा RVRSCD ट्रस्ट के द्वारा जिला अस्पताल में मरीजो,डॉक्टर्स,नर्सिंग स्टाफ अटेंडर्स की सुरक्षा के लिए समर्पित की जाएगी।

क्या है यह मशाीन कैसे करती हैं काम

विरोनील एक 'कोरोना किलर'* मशीन है जिसे हमारे आस-पास महामारी की स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए बनाया गया है।हम सैनिटाईज,हाथ धोने,समाजिक दूरी से इस संक्रमण से नही बच पाए,यह मशीन वातावरण में ही कोरेाना के संक्रमण को खत्म कर देगी।

इस मशीन की तकनीक पर सवाल नही उठ सकते हैं,इस मशीन पर 100 प्रतिशत परिक्षण हुए हैं और यह मशीन एकमात्र मशीन जिसे आई.सी.एम.आर – आईएनवी द्वारा प्रमाणित किया गया है जो कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की साझेदारी में काम कर रही एक वैश्विक स्वास्थ्य संस्था है।

आफिस,अस्पताल में कर सकते हैं इस मशीन का प्रयोग

विरोनील नामक यह 'कोरोना किलर' वायरस को खत्म करने के लिए 'बायपोलर आयनाइजेशन' की तकनीक का प्रयोग करता है और इस तरह परिसीमित स्थान (जैसे अस्पताल,आईसीयू ऑफिस के चारों ओर से बंद कमरे, हॉल, इत्यादि) हमारे रहने और काम के लिए सुरक्षित हो जाते हैं।

मशीन की विशेषताएं:

एकमात्र मशीन जिसे आई.सी.एम.आर – आईएनवी द्वारा प्रमाणित किया गया है जो कि विश्व स्वास्थ्य संगठन की साझेदारी में काम कर रही एक वैश्विक स्वास्थ्य संस्था है।

यह विश्व स्वास्थ्य संगठन के दक्षिण एशिया में निर्धारित एच-5 रेफरेंस लैब-नेशनल इंस्टीच्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे-द्वारा परीक्षित एकमात्र मशीन है।

पुणे के अग्रणी कोविड केयर सेंटर—नायडू हॉस्पीटल—में कोविड-पॉजिटिव मरीजों के स्वाब और स्प्युटम पर इसका 90 दिनों तक सफलतापूर्वक क्लीनिकल परीक्षण किया जा चुका है।*

यह महाराष्ट्र सरकार के चिकित्सा शिक्षा एवं शोध निदेशालय द्वारा अनुशंसित और प्रस्वीकृत है। इस डिवाइस को पेटेंटेड टेक्नोलॉजी के साथ सफलतापूर्वक तैयार किया गया है।

विरोनील नामक इस 'कोरोना किलर' को इंस्टॉल करके आप सैनिटाइजेशन की लागत को कम कर सकते हैं जिससे 4 से 6 महीनों में ही इस मशीन की कीमत की भरपाई की जा सकती है।

आप HVAC सिस्टम की ऊर्जा लागत पर भी बचत कर सकते हैं क्योंकि यह सिस्टम में व्याप्त सभी माइक्रोबियल, फंगस एवं एल्जाई को निरंतर रूप से हटाता रहेगा, जो कि आम तौर पर HVAC सिस्टम की ऊर्जा खपत को बाधित करते हैं। इससे आपके बिजली के खर्चों में 10% से 15% तक की बचत होगी।

यह मशीन रिलायंस,नायडू हॉस्पिटल,एचपीसीएल,आयकर विभाग,लीबिया के दूतावास,लार्सन ऐंड टूब्रो,फिल्म फेयर एवार्ड्स जैसे संस्थानों में सफलतापूर्वक इंस्टॉल किया जा चुका है।

यह मशीन 300 वर्गफीट से लेकर 1000 वर्गफीट तक के एरिया साइज़ में उपलब्ध है और HVAC सेंट्रल एयर कंडीशनिंग सिस्टम में इंस्टालेशन के माध्यम से आपके पूरे वातावरण को कोरोना संक्रमण से मुक्त रहता हैं।