उड़ती शिवपुरी को रोकना होगा: नशे ने दिया परिवारों को न मिटने वाला दर्द, 300 से 500 में टिकिट - Shivpuri News

शिवपुरी। टिकिट के नशे ने कई परिवारों को उजाड दिया इतना ही नहीं कई घरों के चिराग तक बुझ गए लेकिन अब भी उडते शिवपुरी शहर में टिकिट का नशा युवाओं के सिर चढकर बोल रहा है। नशे के कारोबार पर लगाम लगाने के लिए सामाजिक संस्थाओं और पुलिस को आगे आना होगा नहीं तो यह नशा आने वाली पीढियों के रगों में बस जाएगा तो काफी परेशानी का सामना करना पडेगा।

टिकिट के नशे ने कई हसते खेलते परिवारों को उजाड दिया तो कई युवा इस नशे के इतने आदी हो गए हैं कि नशा मुक्ति केंद्र में इलाज कराने के बाद भी उनका यह नशा नहीं छूट रहा है। महज 300 से 500 रूपए में मिलने वाले इस नशे के लिए लोग किसी की जान लेने से भी बाज नहीं आ रहे हैं।

कमाऊ बेटे को लगी नशे की लत जान लेकर छोडी
लुधावली के रहने वाले एक परिवार को ऐसा ही दर्द टिकिट के नशे ने दिया है। इस परिवार में चालक का काम कर परिवार की जबावदारी उठाने वाले बेटे को जब नशे की लग लगी तो वह जितना कमाता था उतना पैसा नशे में उडाने लगा। धीरे धीरे नशे की लत ने एक दिन उसकी जान ले ली। बेवस माता पिता अब अपने दिन काट रहे हैं।

शिवानी को भी गंवानी पडी थी जान
शहर की युवा शिवानी को टिकिट के नशे की लत ऐसी लगी कि उसकी दादी के मना करने पर भी उसने नशा करना नहीं छोडा लेकिन एक दिन उसके दोस्तों ने ही उसे नशे का इतना ओवरडोज दे दिया कि उसकी जान तक चली गई। बेवस दादी का सहारा शिवानी अब इस दुनिया में नहीं हैं।

नशा मुक्ति केंद्र तक हो आया नहीं छूटता नशा
उडते शिवपुरी में टिकिट का नशा इस कदर हावी है कि एक युवा जो कटिंग की दुकान पर अपना जीवन यापन कर रहा था उसे भी दोस्तों ने टिकिट के नशे की लत लगा दी। जब परिवार को पता चला तो उसे नशामुक्ति केंद्र ले गए लेकिन लौटकर आया तो कुछ दिन तो ठीक रहा लेकिन बाद में फिर से उसे नशे ने अपनी गिरफत में ले लिया।

पुरानी शिवपुरी है स्मैक का गढ
पुरानी शिवपुरी को यदि स्मैक का गढ कहा जाए तो अतिश्योक्ति न होगी। यहां कई दुकानों पर नशे का कारोबार बेखौफ संचालित हो रहा है और युवाओं को नशा मिल रहा है।

पुलिस की चुस्ती के चलते अब बदला रबैया
नशे के सौदागरों ने पुलिस की चुस्ती के चलते अब अपने कारोबार का रबैया ही बदल दिया है। स्मैक की पुडिया को कहीं छुपा दिया जाता है और जो पुराना ग्राहक होता है उसे पैसे लेकर उस जगह की लोकेशन दी जाती है जिससे वह वहां से पुडिया उठाए और चल दे।

कई नामचीन लोग भी है टिकिट की गिरफत में
टिकिट का नशा करने वालों में आमजन ही नहीं कई नामचीन लोग भी शामिल है। बीते दिनों पोहरी पुलिस ने एक आरएसएस के नेता को ही स्मैक पीते दबोच लिया था जिसके बाद काफी बबाल भी मचा। ऐसे में साफ है कि स्मैक के नशे की गिरफत में आमजन से लेकर नामचीन लोग भी है।