पटवारी ने अपने खेत में नरवाई जलाई और फसल नुकसान मुआवजा किस जुगाड़ में लग गया - kolaras News

मोहम्मद फरहान काजी@ रन्नौद। प्रदेश सरकार सहित समूचे जिले में जहाँ जहाँ नरवाई में आग न लगने को लेकर चिंतित है व नरवाई में आग लगाने वाले किसानों को शख्त कानून के नियमो के अंतर्गत कार्यवाइ हो रही है यहाँ तक कि कई मर्तवा जेल जाने की नौबत भी आ जाती है,वही प्रदेश के कर्मचारी ही इन नियमो को अनदेखा कर खुद की फसलों को जला कर यह सिद्ध कर कर रहे है तो आम किसानों को प्रेरणा कहाँ से मिलेगी।

हाल ही में मामला जिले की तहसील रन्नौद के अंतर्गत बीजरी गांव में एक किसान राजेश दांगी व पटवारी रणवीर सिंह दांगी के खेत की 7 बीघा में खड़ी गेंहू की फसल निकलने के बाद उक्त किसान ने अपनी फसल की नरवाई को कलेक्टर के आदेश को हवा में उड़ाते हुए खेत को आग के हवाले कर दिया,जबकि वह किसान एक पटवारी है।

उन्हें सारे नियम मालूम होने के बाद भी नियम को दरकिनार कर आग लगा दी,अब ऐसे में बड़ा सबाल खड़ा हो रहा है।ग्रामीणों ने अपना नाम न छाप बाते हुए बताया कि उक्त पटवारी ने खुद ही आग लगवाई नरवाई में ओर गेंहू की फसल दूसरे पटवारी से दर्ज करबा देने के प्रयास में उक्त पटवारी जबकि ऐसा कुछ नही हुआ।

किसान अपने राजस्व विभाग में होते हुए शासन की राशि को गलत तरीके से लेने के प्रयास में है पटवारी रणवीर सिंह दांगी,अब देखना यह होगा कि फर्जी तरीके से नरवाई की जगह गेंहू दर्शा कर कितने पैसे शासन से लेने में सक्षम होते है ,साथ ही खेत की नरवाई में आग लगाने वाले पटवारी पर क्या कुछ कार्यवाई होती है या नही।


इनका कहना है
पटवारी ने जांच प्रतिवेदन अभी दिया नही है ,गेंहू की नरवाई में आग जनि मुआबजा नही दिया जाएगा ,अगर पटवारी ने आग लगाई है या लगवाई है जांच का बिषय है ,ऐसा कुछ होगा तो कार्यवाई की जावेगी
प्रेम लतापाल तहसीलदार रन्नौद