स्व सहायता समूहों ने संभाला गेहूं उपार्जन केंद्र का जिम्मा, ऐसे कर रही है मदद - kolaras News

कोलारस। जिले के कोलारस ब्लॉक के 5 उपार्जन केंद्रों का संचालन सुचारू रूप से स्व सहायता समूह द्वारा किया जा रहा है ग्रीष्म ऋतु में गेहूं खरीदी का काम थोड़ा कठिन होता है, लेकिन महिला स्व सहायता समूह के सदस्यों के उत्साह में कोई कमी नहीं आ रही, महिलाएं स्वयं गुणवत्ता, बोरियों में छाप लगाने, तुलाई का कार्य, सिलाई का कार्य आदि बड़ी सुगमता से कर रहीं हैं।

कड़कड़ाती धूप में खरीदी केंद्रों पर छांव, पानी की पर्याप्त व्यवस्था है विगत वर्ष किसानों को लंबी लाइनों में लगकर दो-तीन दिन खरीदी केंद्रों पर इंतजार करना पड़ता था लेकिन स्व सहायता समूह द्वारा संचालित उपार्जन केंद्रों पर आज दिनांक तक किसानों को रात रुकने की नौबत नहीं आई वही किसानों को भी बेवजह परेशानी से निजात मिली है।

महिलाओं के द्वारा की जा रही खरीदी की किसान सराहना करते नजर आ रहे हैं। जिला प्रशासन द्वारा महिला सशक्तिकरण की दिशा में उपार्जन केंद्रों का संचालन सौंपने से आजीविका के नए विकल्प खुले हैं और जिले में आजीविका मिशन की गतिविधियों को एक नया आयाम मिला है।

कोलारस में लगभग 3500 पंजीयन हुए हैं जिनमें एक केंद्र पर 30,000 क्विंटल से अधिक उपज की खरीदी करने का लक्ष्य रखा गया है 15 मई तक किसान अपनी उपज खरीदी केंद्रों पर तुला सकते हैं।

एसआरएलएम ब्लॉक मैनेजर संजय चैहान ने बताया कि हम प्रयास कर रहे हैं कि किसानों को परेशानी का सामना न करना पड़े किसान अपनी उपज शाम ढलने के पहले तो लाकर घर वापस जा सके जिला कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह एवं एसडीएम गणेश जायसवाल कोलारस एवं डीपीएम अरविंद भार्गव के मार्गदर्शन में किसानों को सही तोल एवं बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करा रहे हैं।

उपार्जन केंद्रों पर ब्लॉक मैनेजर संजय चैहान सीमा सिकरवार दाना जाटव आशा राजकुमारी रावत संगीता राजकुमार राठौर आशीष चतुर्वेदी अमित बंसल सहित संपूर्ण आजीविका मिशन कोलारस मेहनत करो सुविधाओं को बेहतर बनाने के पूरे प्रयास में जुटे हुए है।