विधायक प्रागी लाल जाटव और पूर्व विधायक रणवीर सिंह पहुँचे करैरा अस्पताल की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का जायजा लेने - karera News

करैरा। कोविड 19 से करैरा नगर सहित ग्रामीण अंचलों के अस्पतालों की हालत काफी दयनीय बनी हुई। चाहे वह करैरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हो या फिर दिनारा, सिरसौद का उप स्वास्थ केंद्र जहाँ पर न तो ऑक्सीजन की व्यवस्था है न ही अन्य उपकरणो की कोई व्यवस्था है। जिसकी बजह से अब तक करैरा से दस से ज्यादा लोंगो की मौत कोविड 19 से हो चुकी है। इससे कही ज्यादा अभी जिला अस्पताल और ग्वालियर झाँसी में उपचार करवा रहे है ।

करैरा में दम तोड़ती स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर करैरा विधायक प्रागी लाल जाटव अपने प्रतिनिधि वीर सिंह गुर्जर, दीपक अहिरवार सहित अन्य कार्यकर्ताओं के साथ अस्पताल पहुँचे और स्वास्थ्य सेवाओं की व्यवस्थाओं की जानकारी ली। इस अवसर पर करैरा अस्पताल के बीएमओ डॉ प्रदीप शर्मा ने करैरा विधायक प्रागी लाल जाटव को आश्वस्त किया है कि हम कोई भी कार्य में कोताही नही बरत रहे है ।

जो भी कोविड मरीज निकलता है। तो हम उसको होम क्वारंटाइन कर स्वास्थ्य मेडिसिन सेवाएं घर पर ही पहुँचा रहे है। अगर कोई भी कोविड मरीज बाजारों में घूमता मिलता है तो हम उस पर धारा 188 के तहत मामला दर्ज कराएंगे। इस पर करैरा विधायक प्रागी लाल जाटव ने कहा है कि मैं हर समय आपके पास खड़ा मिलूंगा जब आपको मेरी जरूरत हो आप बुला लेना बस अस्पताल में स्वास्थ्य सेवाएं सुचारू रूप से बनाये रखे । मरीजों को कोई दिककत परेशानी न हो ।

स्वास्थ्य सुविधओं से जुड़ी आवश्यक चीजे देंगे अस्पताल को दान

करेरा अस्पताल पहुंचे पूर्व विधायक रणवीर सिंह रावत, जसमन्त जाटव , डॉ अरविंद बेडर सहित भाजपा कार्यकर्ता कोरोना महामारी के बीच अस्पताल में दवाइयों की कमी की सूचना मिलते ही पहुंचे। पूर्व जनप्रतिनिधि ने लाखों रुपए की दवाई अस्पताल प्रशासन को दी और कहा कि और भी जो भी जरूरतमंद की चीजें हैं वह जल्द ही उपलब्ध कराई जाएंगी,ऑक्सीजन सिलेंडर जल्दी कराए जाएंगे उपलब्ध दिया।

आज पूरा दिन करैरा अस्पताल में जनप्रतिनिधियों के जमावड़ा बना रहा पहले कांग्रेस विधायक प्रागी लाल जाटव अस्पताल पहुँचे इसके बाद भाजपा के पूर्व विधायक रणवीर सिंह रावत , जसम्बत जाटव अस्पताल में पहुँचकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया और स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी होने पर जरूरत की चीजें दान करने की बात अस्पताल प्रवंधन से कही ।

इनका कहना है-

हमारे अस्पताल में 5 बेड है, ऑक्सीजन भी है । केवल स्टाफ की कमी है करैरा अस्पताल में कोई भी विशेषज्ञ चिकित्सक नही है। यह कमी पूरी हो जाये तो हम काफी हद तक हम स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार कर सकते है।
डॉ. प्रदीप शर्मा, बीएमओ करैरा