राहत भरी खबर: मेडिकल कॉलेज में कल से प्रारंभ होगा COVID ICU ,मरीज से नहीं मिल सकेंगे परिजन,यह रहेंगे नियम

शिवपुरी। आज शहर के लिए राहत भरी खबर है। आज शिवपुरी में विधायक यशोधरा राजे सिंधिया के प्रयास से मेडीकल कॉलेज मेें कल से कोविड आईसीयू प्रारंभ हो जाएगा। इस कोविड आईसीयू के प्रारंभ होने से जिला चिकित्सालय में कोविड को लेकर बढ रहा लोड कम हो जाएगा। हांलाकि अत्याधुनिक मेडीकल कॉलेज का यह आईसीयू सभी सुविधाओं से सुसज्जित है। जिसमें यहां बने ऑक्सीजन संयत्र से डायरेक्ट ऑक्सीजन की सप्लाई होगी। जिससे मरीजों को सिलेण्डर में गैस खत्म होने सहित अन्य परेशानीयों से नहीं लडना पडेगा।

इसके साथ ही इस आईसीयू के प्रारंभ होने के लिए मेडीकल कॉलेज की कुछ शर्ते रखी गई है। इस शर्तो के चलते इस कोविड वार्ड में डायरेक्ट मरीज भर्ती नहीं हो सकेगा। मेडीकल कॉलेज के कोविड वार्ड में भर्ती होने के लिए सवसे पहले मरीज की रिपोर्ट कोविड पॉजीटिव होना अनिवार्य है। जिसके चलते मरीज का आरएटी या आरटीपीसीआर में पॉजीटिव होना जरूरी है। उसी मरीज को इस वार्ड में भर्ती किया जा सकेगा। इस वार्ड में सिटी स्कैन में पॉजीटिव और आरटीपीसीआर में निगेटिव होने पर भर्ती नहीं किया जा सकेगा।

इसके साथ ही जिला चिकित्सालय शिवपुरी के आईसोलेशन वार्ड के चिकित्सकों द्धारा कोविड पॉजीटिव मरीजों को जांच उपरांत बिस्तर रिक्त न होने की दश में पूर्व सूचित कर शासन के निर्धारित मापदण्डानुसार रैफर पर्ची के साथ रैफर किया जा सकेगा।

आईसोलेशन वार्ड के चिकित्सक रैफर करने से पूर्व यह सुनिश्चित करेंगे कि चिकित्सा महाविद्यालय के आईसीयू वार्ड में विस्तर खाली है अथवा नहीं। उक्त जानकारी डीसीएच प्रभारी डॉ राजेश कुमार अहिरवार सह प्राध्यापक से फोन या वाट्सएप के माध्यम से करेंगे।

आईसोलेशन वार्ड के चिकित्सकों द्धारा रेफर किए मरीजों के अतिरिक्त अन्य मरीज को भर्ती नहीं किया जाएगा। मरीज अपनी स्वेच्छा से डायरेक्ट भर्ती नहीं हो सकेगा।

इसके साथ ही किसी भी प्रायवेट एवं अन्य शासकीय चिकित्सालय से डायरेक्त मरीज को अपग्रेड चिकित्सा महाविद्यायलय आईसीयू वार्ड को रैफर नहीं किया जा सकेगा। इसके साथ ही सामान्य लक्षणों वाले मरीज जिनका ऑक्सीजन लेवल 90 से उपर है उनको भर्ती नहीं किया जा सकेगा।

कोविड आईसीयू को 5 वीं मंजिल पर बनाया गया है। जिसके चलते परिजन मरीज को लिफ्ट तक छोडकर उपर नहीं जा सकेगे। इस मेडीकल कॉलेज में मरीज से किसी को भी मिलने की इजाजत नहीं होगी। अगर परिजन कोविड नियमों का उलंघ्घन करने की कोशिश करेंगे तो परिजनों के खिलाफ महामारी एक्ट की धाराओं में कार्यवाही की जाएगी। इसके साथ ही कोई भी पत्रकार इस वार्ड में बिना पूर्व अनुमति के फोटो ग्राफी नहीं कर पाएगा।