परिवार परामर्शः तीन माह बाद देखेगी मां अपने नन्हें बेटे की शक्ल, 7 मामलों में हुआ समझौता - Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी स्थानीय पुलिस कंट्रोल रूम में रविवार को आयोजित परिवार परामर्श केन्द्र के शिविर में सुनवाई योग्य 18 प्रकरणों में से 7 में राजीनामा कराने में सफलता प्राप्त हुई तथा 6 प्रकरण महिला प्रकोष्ठ को कार्यवाही हेतु वापस कर दिए गए। वहीं आगामी सुनवाई हेतु 3 प्रकरण पुनरू बुलाए गए।

पिछोर निवासी छाया का विवाह पिछोर क्षेत्र के ही और हरज्ञान से हुआ था जहां छाया एम.ए फाइनल में पढ़ रही है वहीं हरज्ञान इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़कर गणित से बीएससी कर रहा है, इनके 5 माह का एक बच्चा भी है। पति के नशे की लत के कारण महिला विगत 3 माह से नाराज होकर अपने मायके में निवास कर रही थी और उसका दुध मुहा बच्चा सास ससुर के पास रह रहा था।

काउंसलरों की कुशल समझाईस के परिणाम स्वरूप पति पत्नी के गिले-शिकवे दूर हुए वही पति ने नशा न करने का संकल्प भी लिया। छाया अब अपनी ससुराल में रहेगी और लंबे समय के बाद अपने दूधमुहे बच्चे का शक्ल देखेगी।

डबरा निवासी रामू का विवाह करेरा निवासी लता के साथ 3 वर्ष पूर्व हुआ था और विगत 5 माह से लता अपने मायके में रह रही थी । इनके बीच विवाद का विषय था पति के द्वारा पत्नी को अपने साथ नहीं रखना क्योंकि पति निर्माण कंपनी में नौकरी करता है, और ब्यावरा में रहता है इस कारण पत्नी को साथ में नहीं रखता था।

काउंसलरों की समझाइश के बाद अब पति ब्यावरा में अपने साथ अपनी पत्नी को रखेगा और रहने की व्यवस्था भी करने के तत्काल बाद अपनी पत्नी को ब्यावरा ले जाएगा। शिवपुरी निवासी रानू ने आशीष के साथ 2 वर्ष पूर्व प्रेम विवाह किया था और वर्तमान में वह गर्भवती है। मगर पति पर संदेह के चलते उन दोनों के बीच विवाद था? जिसके कारण वह दो माह से मायके रह रही थी ।

परामर्श दाताओं की कड़ी मेहनत और समझाइश से पति पत्नी के बीच संदेह की गलतफहमी दूर हुई और बसंत पंचमी के दिन आशीष अपनी पत्नी की विदा करा कर ले जाए