स्वास्थ्य विभाग छुपा रहा है जिले की कोरोना के मरीजों का मौत का आंकडा: अधिकारी चुप - Shivpuri News

शिवपुरी। शिवपुरी के स्वास्थय विभाग जारी हैल्थ बुलेटिन में लगातार स्वास्थय विभाग जिले के कोरोना मरीजो की मौतो का आंकडा छुपा रहा है। विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार कोरोना से 27 मरीजों की मौत हुई हैं। इसी के साथ डेथ रेट 0.78 प्रतिशत बताई जा रही हैं, जबकि शिवपुरी जिले में अब तक कोरोना से 46 मरीजों की जान जा चुकी है । इस लिहाज से मौजूदा समय में वास्तविक कोरोना मृत्युदर 1.33 प्रतिशत हैं। 

कोरोना से शिवपुरी जिला अस्पताल में गुना या दूसरे जिले व राज्यों के मरीजों की मौत होने पर स्वास्थ्य विभाग जिले के रिकॉर्ड में दर्ज नहीं कर रहा हैं। वहीं शिवपुरी जिले से बाहर ग्वालियर, इंदौर, भोपाल और दिल्ली में कोरोना से जिले के जिन मरीजों की मौत हुई हैं, उनका रिकॉर्ड भी शिवपुरी में नहीं जोड़ा जा रहा है जिससे कोरोना से अब तक हुई मौत और स्वास्थ्य विभाग के हेल्थ बुलेटिन के आधार पर 19 मौत का सीधा अंतर आ रहा हैं। जिले से बहार हुई जिले के कोरोना मरीजों की मौतो को अपने रिकॉर्ड में विभाग दर्ज क्यो नही कर रहा हैं इस मामले में अधिकारी गोलमाल जबाब दे रहा है। 

इस मामले में जिला स्वास्थय अधिकारी डॉ अर्जुनलाल शर्मा का कहना हैं कि डेथ आडिट क आधार पर हमारे रिकॉर्ड में शिवपुरी जिले में कोरोना से 27 लोगो की मौत दर्ज हैं। जिले बहार शिवपुरी में जिन मरीजो की की मौत हुई हैं उनकी डेथ आडिट रिर्पोट निकलवाकर स्थिती का पता करेंगें। डेथ आडिट में यह भी हो सकता हैं कि मरिजो की मौतो का कारण कोरोना की बजाय दूसरा भी निकल आता हैं हो सकता हैं कि इस कारण हमारे रिकॉर्ड में मौते कम रह गई हो। 

इस बयान पर सीधे-सीधे लिखेत हैं कि यह कोरोना जैसी महामारी के प्रतिदिन आकडे बन रहे हैं जिलेबार,प्रदेशबार ओर देशबार प्रकाशित हो रहे हैं। जिले के स्वास्थय विभाग के आंकडे में वह कोरोना के मरीजो के आंकडे दर्ज है जिनकी मौत जिले में हुई है और वे शिवपुरी जिले के है। 

अगर शिवपुरी के मरीज की मौत अन्य जिले में हुई हैं तो उसका आंकडा वहां भी दर्ज नही किया जा रहा होगा। प्रतिदिन रिर्पोट बनती हैं कि कहां के मरीज की मौत हुई हैं तो जून माह से रिकार्ड नही आया होगा यह संभव नही हैं। जब जांच की रिर्पोट आ रही हैं तो मौतो की क्यो नही। क्या जिले के बहार एक भी मरीज की मौत कोरोना के कारण नही हुई हैं.... सवाल बडा हैं।