संविधान निर्माता की मूर्ति असंवैधानिक तरीके से स्थापित करने वालो के चेहरे वायरल: आरोपी अभी भी अज्ञात - Pichhore News

शिवम पाण्डेय,पिछोर। देश के संविधान निर्माता डॉ भीमराव अबेंडकर की प्रतिमा बीते अक्टूबंर माह में पिछोर अनुविभाग के खोड के बरेला चौराहे पर कुछ अज्ञात लोगो ने रात में स्थापित कर दी थी। इस मामले में प्रशासन ने अज्ञात लोगो पर मामला भी दर्ज किया था,पिछले 24 घंटे से एक वीडियो वायरल हो रहा हैं और यइ वीडियो इसी घटना का बताया जा रहा हैं। लेकिन शिवपुरी समाचार डॉट कॉम इस वीडियो की पुष्टि नही करता है। 

जानकारी के अनुसार बीते अक्टूबर माह की 6 और 7 तारिख की रात में पिछोर अनुविभाग के अंर्तगत आने वाले खोड के बरेला चौराहे पर कुछ लोगो ने प्रशासन की स्वीकृति लिए बिना असुरक्षित तरिके से डॉ भीमराव अबेंडकर की प्रतिमा रातो रात स्थापित कर दी थी। पंचायत सचिव के रिर्पोट पर खोड चोैकी में अज्ञात लोगो के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया था। 

इस प्रतिमा के स्थापित करने के बाद इसको क्षतिग्रस्त भी किया गया था। इसके बाद इस मामले में राजनीति भी शुरू हो गई थी। बसपा सुप्रीमो मायाबती से लेकर ज्योदिरादित्य सिंधिया तक के बयान आना शुरू हो गए थे। पुलिस ने मुर्ति क्षतिग्रस्त करने वाले दो आरोपियो को गिरफ्तार भी कर लिया था,लेकिन इस प्रतिमा को बिना स्वीकृति के स्थापित करने वाले लोगो को पहचान पुलिस नही कर सकी थी। 

इस मुर्ति को स्थापित करने वालो लोगो का वीडियो पिछले 24 घंटे से सोशल पर वायरल हो रहा हैं। आज जो वीडियो वायरल हुआ हैं। इस वायरल वीडिया में एक बंदूक धारी और एक व्यक्ति माला पहनाता स्प्ष्ट दिख रहा हैं,कयास लगाए जा रहे हैं कि यह वीडियो प्रतिमा स्थापित करने का समय का हैं क्यो कि वीडियो में रात के समय का हैं। 

अब इस वीडियो में दिख रहे चहेरो के पड़ताल की दरकार है। अगर ये वीडियो उसी जगह का है, तो कार्रवाई हो सकती है। इधर एसपी राजेश सिंह चन्देल के पास भी ये वीडियो पहुंचने की जानकारी मिली है। जिससे इस मामले में अब जल्द ही नामजद केस दर्ज किये जाने के आसार बढ़ गए हैं। 

करैरा में भी नामजद दर्ज हुआ केस

बता दे कि करैरा में भी इसी तर्ज पर एसडीओपी कार्यालय की कनपटी पर रातों रात प्रतिमा लगाने स्टैंड बना डाला था। सुबह तहसीलदार गोरीशंकर बैरवा की टीम हरकत में आई। स्टैंड हटाया साथ ही सीसीटीवी में दिखाई दिए स्टैंड के निर्माण करने वालो पर केस दर्ज कर लिया गया था। बता दें कि कलक्टर अक्षय सिंह का साफ कहना है कि इस तरह बिना अनुमति किसी भी जगह प्रतिमा स्थापित नहीं करना चाहिए। अगर कोई ऐसा करेगा तो कठोर कार्रवाई की जाएगी।