मैंने कैसे - कैसे फंद कलेक्टर कोष में जमा कराया है, तुम क्या जानो तुमने 5 करोड़ लेप्स करा दिए: यशोधरा राजे - SHIVPURI NEWS

शिवपुरी।
जिला कलेक्टर कार्यालय के सभा कक्ष में शिवपुरी विधानसभा में चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा बैठक के दौरान उस समय सनाके की स्थिति बन गई जब कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने जिला कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह से पूछा की जब मैं धर्मस्य विभाग की मंत्री थी तब मैने 5 करोड़ रूपया कलेक्टर कोष में यह सोच कर जमा कराया था कि इस कोष में पैसा सुरक्षित रहेगा और उसका सदुपयोग होगा।

मुझे जानकर हैरानी हैं कि 5 करोड़ रूपया लैप्स हो गया और मुझे इसकी जानकारी तक नहीं दी गई। उन्होंने समीक्षा बैठक के बाद कलेक्टर से अलग से चर्चा करते हुए कहा कि मैं क्षेत्र के विकास और उसकी समृद्धि के लिए कैसे-कैसे फंड लेकर आती हूं यह तुम नहीं जानते हो। एक-एक पैसा मैं जनता की भलाई और बेहतरी के लिए क्षेत्र के विकास कार्यों में खर्च करना चाहती हूं लेकिन जब मुझे पता चलता हैं कि विकास कार्यों के लिए आया पैसा लेप्स हो गया हैं तो मुझे बड़ी तकलीफ होती हैं।

उन्होंने दो टूक अंदाज में जिला कलेक्टर को निर्देशित करते हुए कहा कि आप इस मामले में तत्काल पीएस से बात करो। कैबिनेट मंत्री की कड़ाई से पूरी तरह प्रभावित नजर आ रहे जिला कलेक्टर ने बताया कि पांच करोड़ रूपया मेरे आने से पहले लेप्स हो गया हैं। कलेक्टर के इतना कहते ही कैबिनेट मंत्री ने वर्तमान कलेक्टर के पहले पदस्थ रहे तीन कलेक्टरों के नाम मुंह जुवानी जिला कलेक्टर को बताते हुए कहा कि पता करो की किसके कार्यकाल में यह बड़ी लापरवाही हुई हैं।

कैबिनेट मंत्री ने इसी मामले में धर्मस्य कार्यों को देख रहे सब इंजीनियर पीके जैन को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि आप सारे कार्यों को देख रहे थे आपकी निगरानी के बाबजूद 5 करोड़ रूपए की राशि लेप्स कैसे हो गई? आपने मुझे इस मामले की जानकारी क्यों नहीं दी? आपको कुछ पता भी रहता हैं या नहीं! इसके बाद कैबिनेट मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने तत्काल प्रभाव से सब इंजीनियर को निलम्बित करने के आदेश मौके पर ही दे दिए।

उपरोक्त मामले में यह निम्न तथ्य पूरी तरह प्रमाणित हो गया हैं कि क्षेत्र के विकास के लिए दिन रात एक करने वाली कैबिनेट मंत्री यह कतई बर्र्दास्त नहीं कर सकती कि कोई भी उनके विकास कार्यों में आड़े आए क्षेत्र की तरक्की में बाधा बने।