विक्रय से वर्जित भूमि को भूमांफियाओं ने बेच दिया, सांसद बोले जांच कराएंगे - khaniyadhana News

खनियाधाना
। जिले के खनियाधाना नगर से शहर से चंद किमी की दूरी पौठ्याई पिछोर वायपास पर क्षेत्र में करीब लगभग ढेर बीघा भूमि का गड़बड़झाला सामने आया है। जानकारी के अनुसार ढेर लगभग बीघा जमीन का सौदा आधा दर्जन विक्रेताओं से चार दलालों के माध्यम से लाखों रुपये की बयाना राशि देकर किया। इस मामले की सूचना स्थानीय पत्रकारों ने सांसद डॉ केपी यादव को दी। जहां डॉ के पी यादव ने मामले में कलेक्टर से जांचकराने की बात कही है।

चूंकि उक्त जमीन विक्रय से वर्जित थी। खतौनी नम्बर 1/744 भूमि विक्रय से वर्जित थी जिसमें मप्र भूराजस्व संहिता के प्रावधानों की खुलेआम धज्जियां बिखेरी गई। खनियाधाना में विक्रय से वर्जित भूमि खतौनी 1/744 जो कि विक्रय से वर्जित थी। जिम्मेदारों ने गोलमाल इस हद तक बढ़ गया है कि प्रशासन के अधिकारी भी इस गोलबंदी मेें शामिल हो गए हैं ऐसे में कानून के पालन की अपेक्षा किससे की जाए।

ग्राम पोठयाई के पिछोर वायपास पर व्यावसायिक प्रयोजन से बिना किसी बिना नामंतरण के काम कराया जा रहा है नाही इन भू माफियाओं ने ग्राम पंचायत ओर क्योंकि यह एरिया नगर पंचायत से जुड़ा हुआ है और इन्होंने नगर पंचायत किसी भी तरह की अनुमति नहीं ली और कहि का पट्टा कही की जमीन है।

लेकिन भूमि स्वामी द्वारा पट्टे की जमीन सरकारी जमीन होती है। इसका बिना सक्षम प्राधिकारी की स्वीकृति के किसी भी प्रकार से क्रय-विक्रय नहीं किया जा सकता है। पट्टे की जमीन का नामांतरण भी नहीं किया जा सकता है लिक इतनी बड़ी भ्रष्टाचार को अंजाम कैसे दे दिया अधिकारियों ने
आरोपियों ने खसरा तथा भू-अधिकार एवं ऋण पुस्तिका फर्जीवाडा करके इस भ्रष्टाचार को अंजाम दिया है ।

सूत्रों की मांने तो विक्रेता और दलालों ने आधी-आधी राशि अपनी जेब के हवाले कर ली है इस घपलेबाजी में राजस्व विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों का हाथ होने का भी अंदेशा है। रिकार्ड में यह जमीन अभी भी  विक्रय वर्जित है

इनका कहना है
जिस तरह पूर्व में अतिक्रमण टुटे थे उसी प्रकार द्वावारा कार्रवाई करेंगे कल मैं पटवारी को भेजता हूं कार्रवाई करता हूं
दीपक शुक्ला,तहसीलदार खनियाधाना

मेरे संज्ञान में मामला आया है मैंने तहसीलदार को अवगत करा दिया विक्रय से वर्जित भूमि बिना कलेक्टर के परमिशन के नहीं बेची जा सकती यह कैसे विक्रय हो गई इसकी जांच कराता हूं।
के आर चौकीकर, एसडीएम पिछोर

हां कमलनाथ सरकार में पूरे प्रदेश में गरीबों पर कहर ढाया गया था। जिसके चलते यहां भी माफिया सक्रिय हो गए है। आप इस मामले को बता रहे हो। हम इसे दिखबा लेते है। अगर ऐसा है तो हम कलेक्टर से कार्यवाही कराएंगे।
डॉ केपी यादव,सांसद गुना लोकसभा