भाजपा में दो फाड: नरेन्द्र सिंह तोमर के कार्यक्रम में नहीं दिखाई दिए सिंधियानिष्ठ कार्यकर्ता / SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। करैरा और पोहरी विधानसभा उपचुनाव में सिंधिया समर्थकों और भाजपा के निष्ठावान कार्यकर्ताओं के बीच समन्वय बनाने के लिए केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष बीडी शर्मा शिवपुरी आए। लेकिन टूरिस्ट विलेज मेें बुलाई गई बैठक में इक्का दुक्का सिंधिया समर्थकों के अलावा कोई सिंधिया समर्थक नजर नहीं आया।

जबकि बैठक में केन्द्रीय मंंत्री तोमर और प्रदेशाध्यक्ष बीडी शर्मा ने कार्यकर्ताओं को पोहरी और विधानसभा क्षेत्र में जीत के लिए जुट जाने का आव्हान किया तथा सिंधिया समर्थकों के साथ समन्वय और सामंजस्य बनाने को कहा।

दोनों नेताओं ने कहा कि सिंधिया और उनके समर्थकों के भाजपा में आने के बाद पूरी पार्टी एकजुट है और कार्यकर्ता-कार्यकर्ता में कोई भेद नहीं है। लेकिन भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के इन महत्वपूर्ण वचनों को सुनने के लिए बैठक में सिंधिया समर्थकों की अनुपस्थिति पार्टी की आंतरिक गुटबाजी इंगित कर गई।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष बनने के बाद बीडी शर्मा पहली बार शिवपुरी आए और स्पष्ट साफ था कि शिवपुरी जिले के दो विधानसभा क्षेत्रों में होने वाले उपचुनाव में पार्टी की जीत के लिए व्यूह रचना तैयार करना। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि दोनों विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा उम्मीदवार कांग्रेस से इस्तीफा देकर आने वाले सिंधिया समर्थक हैं। इसके लिए पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओं और सिंधिया समर्थकों के बीच समन्वय बनाया जाए।

इस हेतु प्रदेशाध्यक्ष बीडी शर्मा के साथ केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी साथ आए। लेकिन पार्टी के इन वरिष्ठ नेताओं की भावनाओं को स्थानीय स्तर पर किसी ने भी नहीं समझा। भाजपा के जिला संगठन को चाहिए था कि एकता सूत्र के लिए वह दौरे से पूर्व सिंधिया समर्थकों से सलाह मशवरा करें और उन्हें विधिवत रूप से बैठक में आमंत्रित करें। लेकिन ऐसा नहीं किया गया।

जिसका परिणाम यह हुआ कि जिस मकसद के लिए वरिष्ठ नेतागण शिवपुरी आए थे। उसकी भूमिका को विफल करने में स्थानीय स्तर पर ही प्रयास हुए। टूरिस्ट विलेज में शिवपुरी, कोलारस और पिछोर विधानसभा क्षेत्र के भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक में वरिष्ठ सिंधिया समर्थक नेतागण नजर नहीं आए।

वरिष्ठ नेताओं के स्वागत कार्यक्रमों से भी सिंधिया समर्थकों ने दूरी बनाए रखी और इनके स्वागत में न तो कहीं बैनर न पोस्टर न होडिंग लगे और न ही टूरिस्ट विलेज से पीएस होटल तक आगमन में किसी भी सिंधिया समर्थक ने नरेंद्र सिंह तोमर तथा बीडी शर्मा का स्वागत नहीं किया। यहां तक कि टूरिस्ट विलेज पर पोहरी और करैरा विधानसभा क्षेत्रों के भाजपा प्रत्याशी भी नहीं दिखे।

प्रदेश सरकार ने शिवपुरी जिले में सिंधिया समर्थक सुरेश राठखेड़ा को राज्यमंत्री बनाया है। लेकिन स्वागत कार्यक्रमों से उनकी दूरी भी चर्चा में रही। पीएस होटल में भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक में अवश्य सिंधिया समर्थक दिखे। इनमें पोहरी विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी और प्रदेश सरकार के मंत्री सुरेश राठखेड़ा भी थे।

इनके अलावा हरवीर सिंह रघुवंशी, राकेश गुप्ता, मुकेश जैन, केशव सिंह तोमर, रविंद्र शिवहरे आदि नेतागण भी थे। लेकिन उनकी भूमिका महज तमाशबीन की रही और भाजपा संगठन ने उन्हें महत्व दिया हो ऐसा कहीं से कहीं तक नजर नहीं आया। हालांकि प्रदेशाध्यक्ष बीडी शर्मा ने साफ-साफ कहा कि भाजपा के लिए पोहरी और करैरा की विधानसभा चुनाव प्रतिष्ठापूर्ण हैं। कल तक हम जिनसे लड़ते थे आज वह हमारे साथ हैं। लेकिन वह कड़वाहट नजर नहीं आना चाहिए और चुनाव में जीतने के लिए एक-एक कार्यकर्ता को जुट जाना चाहिए।

इनका कहना है-
केन्द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष बीडी शर्मा के शिवपुरी दौरे के कार्यक्रम के बारे में पार्टी के जिला संगठन द्वारा हमें कोई सूचना नहीं दी गई। हालाकि इस संबंध में हमें कोई शिकायत नहीं है। लेकिन हमने कोलारस और बदरवास में उनका स्वागत किया है। शिवपुरी में स्वागत क्यों नहीं हुआ यह शिवपुरी वाले जाने। मैं विजय शर्मा और भैया साहब लोधी करैरा के प्रभारी बनाए गए हैं और हम करैरा दोनों वरिष्ठ नेताओं के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जा रहे हैं।
बैजनाथ सिंह यादव, सिंधिया समर्थक भाजपाई (पूर्व जिला कांग्रेस अध्यक्ष)