भ्रष्टाचार का गढ़ बनी ग्राम पंचायत वीरपुर, अधूरी पड़ी है काम, पूरा पैसा गप कर लिया - PICHHORE NEWS

खनियाधाना।
 खबर जिले के खनियाधाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाली पंचायत वीरपुर से है जहां पंचायत सचिव बृजेंद्र दुबे द्वारा पंचायत में लाखों का भ्रष्टाचार करने का मामला सामने आया है। जिसमें से सचिव द्वारा किए गए अधूरे कार निर्माण के बाद भी दस्तावेजों में उन्हें पूरा दिखा कर सारी राशि निकालकर गबन कर ली गई है। जिसमें से अधूरा पंचायत का मुक्तिधाम, नल जल परियोजना का पूरा कार्य ना होना, खेल मैदान नहीं बनना एवं आदिवासी के लिए आया कुआं का अधूरा कार्य कराना जैसे तमाम भ्रष्टाचार के मामले हैं जिसमें ग्राम पंचायत लिप्त हो चुकी है।

जानकारी के अनुसार पंचायत वीरपुर जनपद पंचायत खनियाधाना में ग्रामीणों का आरोप है कि वीरपुर में 2014 से 15 तक के जो कार्य पंचायत वीरपुर के लिए स्वीकृत हुए थे वह आज दिनांक तक अधूरे पड़े हैं। अधूरे कार्यों को आला अधिकारियों से सांठगांठ करके राशि निकाल कर गवन कर ली गई है और दस्तावेजों में कार्यों को पूरा दिखाया गया है। जिसके चलते ग्रामीण काफी परेशान हैं।

पंचायत वीरपुर में अधूरा मुक्तिधाम पड़ा हुआ है जिसमें अभी तक ना तो बाउंड्री हुई है और ना ही टीन सेट लगाए गए हैं तो वही नल जल परियोजना का भी कार्य अधूरा पड़ा है ग्रामीणों को नल जल योजना का लाभ नहीं मिला एवं सचिव ने अपने लोगों को योजना का फायदा कराया या फिर जिन लोगों ने योजना का पैसा दिया सिर्फ उन्हीं लोगों को योजना का फायदा मिल पा रहा है।

बता दें कि 2015 में स्वीकृत खेल मैदान अभी भी पंचायत वीरपुर में अधूरा पड़ा हुआ है, जिसका पूरा पैसा निकाल लिया गया लेकिन आज दिनांक तक खेल मैदान तैयार नहीं हो पाया। पंचायत में आदिवासियों के लिए स्वीकृत कुआं का अधूरा निर्माण सचिव बृजेंद्र दुबे द्वारा कराया गया था जिसे पत्थरों से रोककर भर दिया गया और पूरा पैसा निकाल लिया गया जहां आदिवासी पानी के लिए मोहताज हैं।

कुल मिलाकर पंचायत सचिव बृजेंद्र दुबे द्वारा ग्राम पंचायत को भारी भ्रष्टाचार में लिप्त कर दिया है। पंचायत में जो कार्य पूरे ही नहीं हुए उनका पैसा निकाल कर सचिव ने गबन कर लिया। ग्रामीण काफी परेशान हैं उन्होंने कई जगह शिकायत भी की लेकिन आज दिनांक तक सचिव पर कोई कार्यवाही नहीं हुई।