दुकान की कुर्सी पर बैठे-बैठे 30 वर्षीय युवा की मौत: कोरोना के डर से 4 घंटे में पीएम हाउस पहुंचा शव

शिवपुरी। कोरोना का डर कितना हैं इसका जीता जागता उदाहरण शहर के निचला बाजार राठौर मोहल्ला में देखने को मिला। बताया जा रहा हैं कि राठौर मोहल्ले में एक युवा की मौत हो गई। युवक कोरोना संदिग्ध था। प्रशासन को उसके शव को पीएम हाउस पहुचाने के लिए 4 घंटे से अधिक समय लग गया। लेकिन शाम तक युवक की कोविड 19 की रिर्पोट आ गई और वह निगेटिव निकला।

जानकारी के अनुसार शहर के निचला बाजार राठौर मोहल्ला में निवास करने वाले हेंमत उम्र 30 साल पुत्र स्व महेश उपाध्याय अपने ही घर में बनी दुकान में किराने की दुकाने करते थें। शुक्रवार की दोपहर 12.30 से 1 बजे की बीच दुकान पर बैठे-बैठे ही मौत हो गई।

बताया जा रहा है कि अपनी बहन और पिता की हत्या के बाद दोना भाई घर में अकेले रहते हैं। जब मोहल्ले वालो ने हेंमत की शरीर में हलचल नही देखी तो पुलिस को फोन किया। और बताया गया था कि मृतक कोरोना संदिग्ध हैं।

इसके एक घंटे बाद 1 बजे एंबुलेंस मौके पर पहुंची,इसमें कर्मचारी पीपीई किट लेकर पहुंचा लेकिन किट पहनाएगा कौन तब नपा के अमले को बुलाया गया जो डेढ़ घंटे बाद यानि 2:30 बजे मौके पर आए। उन्होंने आते ही कहा कि उन्हें किट पहनाना ही नहीं आता। इसके वाद टीआई वादामसिंह यादव ने सिविल सर्जन डॉ.पीके खरे को फोन लगाया। इसके बाद 3:30 बजे स्वास्थ्यकर्मी मौके पर आए और तब किट पहनाने के वाद 4 बजे शव को पीएम हाउस भिजवाया गया।

30 साल के युवा की मौत के बाद स्वास्थय विभाग में हलचल बड गई और हेंमत की रिर्पोट की खोजबीन शुरू की गई लेकिन हेंमत के भाई सुशील ने बताया कि वह एक दिन पहले दोनो भाई कोरोना की जांच कराने अस्पताल गए थे लेकिन बिना सैंपल दिए ही लौट आए। प्रशासन ने फिर मृतक की जांच टूनेट मशीन पर कराई जो निगेटिव आई।

में साठ साल का हूं मुझे बचने दे: पुलिसकर्मी ने कहा

तक के भाई सुशील से नाम पता और जानकारी के लिए टीआई बादाम सिंह यादव ने एक दिवान से कहा,सुशील को सर्दी जुकाम और खांसी जैसे लक्ष्ण दिख रहे थे। दिवान ने कहा साहब 60 का हूं बचने दे। फिर टीआई ने कहा कि दूर से जानकारी ले।