रिमझिम फुहारों ने किया विघ्नहर्ता का स्वागत, कोरोना के चलते नहीं सजे पंडाल, तीगुने दामों में बिके लम्बोदर / SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। आज गणेश चर्तुथी शहर में बड़े उत्साह के साथ मनाई जा रही है। भगवान गणेश के स्वागत के लिए सुबह से ही आकाश से गंगा की फुहारें बरस रही हैं और इन रिमझिम फुहारों के बीच विघ्रहर्ता के स्वागत में शहर उमड़ पड़ा है। बाजारों में काफी चहल-पहल है। कोरोना के चलते गाईड लाईन डिसाईड होने के चलते इस बार लम्बोदर प्रतिवर्ष की भांति तीन गुने दामों पर बिके।

जहां भगवान गणेश की प्रतिमाएं खरीदकर भक्त घरों पर ले जा रहे हैं और पूरे विधिविधान के साथ भगवान गणेश की स्थापना कर रहे हैं। वर्षो से गणेश चर्तुथी से शुरू होकर अनंत चौदस तक चलने वाला यह उत्सव इस वर्ष कोरोना के कारण विस्तृत रूप में नहीं मनाया जा रहा है। शासन की गाईडलाईंस के अनुसार घरों पर ही भगवान गणेश की छोटी प्रतिमाएं स्थापित कर उनकी पूजन आराधना करने के निर्देश हैं। वहीं सार्वजनिक स्थलों पर लगने वाले पांडालों और झांकियां लगाने पर रोक है। जिससे भीड़ भाड़ एकत्रित न हो सके।

पिछले कुछ दिनों से बाजारों में भगवान गणेश की प्रतिमाओं की बिक्री प्रांरभ हो गई थी और आज सुबह से दुकानों के आगे और ठेलों पर मिट्टी से निर्मित गणेश प्रतिमाएं बिक्री शुरू हो गई। ठेलों पर प्रतिमाएं खरीदने वालों की भीड़ लगी हुई थी। लोगों ने श्रीजी की स्थापना के लिए पूजन सामग्री की भी खरीददारी की और शुभ मुर्हुत मेें श्रीजी की स्थापना कर भगवान विघ्रहर्ता से कोरोना जैसी महामारी को दूर करने की प्रार्थना की।

इस वर्ष सार्वजनिक स्थलों पर लगने वाले पांडाल नहीं सजाए गए। हालांकि मंदिरों में आकार्षक लाईङ्क्षटंग के साथ भगवान गणेश की छोटी-छोटी प्रतिमांए स्थापित की गईं। मंदिरों में भगवान के दर्शनों के लिए सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करना अनिवार्य रहेगा। वहीं मास्क लगाकर भक्तों को मंदिरों में प्रवेश दिए जाने का प्रशासन का आदेश है।