शर्म से डूब मरने वाली खबर: सडक किनारे अंत्योष्टि कराने को मजबूर ग्रामीण,शव को रखकर किया प्रर्दशन / narwar News

नरवर। खबर शर्म से डूब मरने वाली हैं आधुनिक भारत के बढते कदमो में ग्रामीण इलाको में वर्षाकाल में अत्योष्टि कराने की जगह नही हैं। गावो की दशा और दिशा बदलने के लिए कई योजनाए संचालित हैं करोडो रूपए एक-एक पंचायतो पर फूक दिए गए हैं लेकिन कितनी दशा और दिशा इस खबर से दिख रही हैं कि मूल भूत सुविधा इस गांव में नही है।

शमशान घाट में वर्षाकाल में पानी भरने के कारण और सरकारी जमीन पर दबंग का कब्जा होने के कारण ग्रामीणो को शव को अंतिम सस्कार कराने के लिए उचित जगह नही हैं इस कारण सडक के किनारे ही खुले आसमान के नीचे अंतिम कार्यक्रम किया गया। वहां मौजूद लोग भगवान से प्रार्थना करते नजर आए की हे भगवान पानी नही बरसे नही तो कैसे यह अंतिम संस्कार पूरा होगा।  

नरवर ब्लॉक की ग्राम पंचाय सोन्हर के ग्राम धर्मपुरा में बीते रोज 105 वर्षीय बुर्जग दिलीपा कुशवाह की मौत हो गई। अंत्येष्टि के लिए गए तो शमशान घाट पर बारिश का पानी भर गया था । दूसरी जगह अंत्येष्टि की व्यवस्था नहीं हो पाने से गांव वाले नाराज हो गए । बीच गांव में शव रखकर विरोध करने लगे।

दोपहर 1 बजे के बाद नरवर तहसीलदार गोविंद सिंह ठाकुर को सूचना ली। तहसीलदार मौके पर पहुंचे और गांव वालों ने श्मशान घाट पर पानी भरने संबंधी समस्या बताई। इसके बाद तहसीलदार ने गांव में ही सड़क किनारे खाली पड़ी सरकारी जमीन पर अंत्येष्टि करा दी ।

हर बार श्मशान घाट की जमीन पर पानी भर जाता है । सोन्हर पंचायत के धर्मपुरा में सर्वे क्रमांक 938 पन श्मशान घाट आरक्षित है । बरसात में यहां हर बार पानी भर जाता है । गांव में किसी का भी निधन होता है तो उक्त स्थल पर अंत्येष्टि संभव नहीं हो पाती है । इसी को लेकर पूरा गांव पेरशान रहता हैं। गांव वाले दूसरी जगह श्मशान घाट बनवाने की मांग कर रहे हैं । जिससे आने वाले दिनों में परेशानी से बचा जा सके ।


अंत्येष्टि को लेकर विरोध के बाद तहसीलदार गांव पहुंचे। गांव वालों ने सरकारी जमीन पर पनिहार गांव के बलराम कुशवाह का कब्जा होना बताया। तहसीलदार से जैसे ही शिकायत की तो बलराम मौके से चुपचाप चला गया। इसके बाद कब्जे वाली सरकारी जमीन पर ही तहसीलदार ने अंत्येष्टि करा दी।

सरकारी जमीन पर दबंग का कब्जा
खाली पड़ी सरकारी जमीन पर पनिहार गांव के एक दबंग व्यक्ति ने जबरन कब्जा कर लिया है। श्मशान घाट वाली जगह पर पानी भर जाने के बाद जब उक्त सरकारी जमीन पर अंत्येष्टि के लिए जाते हैं तो वह व्यक्ति सरकारी जमीन को अपनी बताता हैं। इसलिए अंत्येष्टि करना मुश्किल हो जाता हैं। गांव के खुमान सिंह , मायाराम कुशवाह , मान सिंह कुशवाह , तिलोक कुशवाह आदि ने उसी जगह पर श्मशान घाट बनाने की मांग रखी है ।

कार्यवाही का डर दिखाया प्रशासन ने
ग्राम धर्मपुरा के ग्रामीण जब मृतक दलीपा कुशवाह का शव गांव में रखकर प्रदर्शन कर रहे थे , तभी मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों ने भीड़ को देख कहा कि एक साथ इतनी भीड़ एकत्रित क्यों है । कार्रवाई करने की बात कही । इस पर कई ग्रामीण शव छोड़कर कार्रवाई के डर से भाग गए । बाद में ग्रामीणों को समझाकर मृतक का शासकीय भूमि पर अंतिम संस्कार कराया गया ।

इनका कहना हैं
आरक्षित जमीन पर श्मशानघाट बनवाएंगे धर्मपुरा में श्मशान घाट की भूमि को लेकर ग्रामीणों ने मृतक का शव रखकर गांव में नारेबाजी की थी । मौके पर पहुंचकर मृतक का अंतिम कार करवा दिया है । साथ श्मशान घाट के लिए भूमि आरक्षित कर श्मशान घाट का निर्माण करने को कहा हैं।
गोविंद सिंह ठाकुर , तहसीलदार नरवर