स्वच्छ सर्वेक्षण 2020: औंधे मुंह गिरा शिवपुरी, पिछले साल की तुलना में 18 पायदान खिसका / Shivpuri News

शिवपुरी। स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के नीतेज कल गुरूवार को जारी हो चुक है। शिवपुरी नगर पालिका की कार्यप्रणाली फिर सामने आई हैं। अपने प्रर्दशन को सुधारने की बात तो छोड पिछले साल की रिकार्ड को भी नपा मैंटेंन नही रख सकी हैं। पिछले साल की तुलना में 18 पायदान खिसक गई हैं। 2020 के नतीजो में शिवपुरी शहर की 101वीं रैंक आई हैं।

जानकारी के अनुसार 1 लाख से ज्यादा आबादी वाले 382 शहरों में शिवपुरी शहर की 101 वीं रैंक आई है । प्रदेश में शिवपुरी 21 वें स्थान पर है । हालांकि पिछले साल से शिवपुरी शहर 183 अंक पिछड़ गया हैं। हालांकि साल 2019 में एक लाख से ज्यादा आबादी की श्रेणी में 100 शहर शामिल थे।

शिवपुरी शहर में डोर टू डोर कचरा कलेक्शन के लिए नगर पालिका द्वारा गाड़ियां लगाई हैं । जिससे शहर के अधिकतर लोग अब घरों के बाहर कचरा फेंकने की बजाय गाड़ियों में डालते हैं। इस कारण पिछले साल शिवपुरी ने ठीकठीक प्रर्दशन किया था और सर्वे में 82 वीं रैक पर खडी थी। स्वच्छ सर्वेक्षण की शुरुआत साल 2016 में हुई थी । तब शिवपुरी  की नगर पालिका को शामिल नहीं किया गया था।

अगले साल 2017 से शिवपुरी शहर स्वच्छ सर्वेक्षण की दौड़ में शामिल हुआ और पहले साल 228 वीं रैंक हासिल की । इसके बाद साल 2018 में सुधार हुआ और 185 वीं रैंक आई । साल 2019 में नगर पालिका ने ट्रेंचिंग ग्राउंड तैयार करने से लेकर साफ सफाई पर ज्यादा ध्यान दिया । काफी सुधार आने पर 82 वीं रैंक हासिल की। लेकिन इस बार सर्वेक्षण में 101वीं रैक मिली हैं।

नपा स्वास्थ्य अधिकारी गोविंद भार्गव का कहना है कि कई लोग कचरा गाड़ियों में कचरा नहीं डालते । जागरुकता की जरूरत हैं। सड़कें ठीक नहीं होने से अंक कम हैं। इस बार गोपनीय तरीके से सर्वे हुआ, दल कब आए खुद नगर पालिका को पता नहीं चला। जनता ने भी ठीक से फीडबैक नहीं दिया । अब प्रशासक के रहते हम रेंकिंग में पहले से ज्यादा सुधार लाने की कोशिश करेंगे।