कोरोना ड्यूटी के दौरान शहीद हुई वंदना तिवारी को कोरोना फाइटर की घोषित की जाए / SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। मध्यप्रदेश के शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में कार्यरत फार्मासिस्ट वंदना तिवारी की कोरोना ड्यूटी के दौरान स्ट्रोक से मृत्यु पर मध्यप्रदेश सरकार की असंवेदनशीलता पर आज मध्यप्रदेश के फार्मासिस्ट राजवीर त्यागी अभिषेक सिंह परमार, और अखिलेश त्रिपाठी के आह्वान पर राजस्थान एवं मध्य प्रदेश के फार्मासिस्ट कर्मचारियों ने पत्र लिखकर व ट्विटर पर आक्रोश व्यक्त किया है।

कोरोना कर्मवीर स्वास्थ्यकर्मी की मृत्यु पर प्रधानमंत्री की बीमा योजना के तहत 50 लाख रूपए की राशि परिजनों को सम्बल हेतु प्रदान करने का प्रावधान है परंतु फार्मासिस्ट वंदना तिवारी की 7 अप्रेल को कोरोना ड्यूटी दौरान मृत्य होने के 2 महीने बाद भी मध्य-प्रदेश सरकार ने असंवेदनशील रवैया अपनाते हुए शहीद हुई कोरोना कर्मवीर फार्मासिस्ट श्रीमती वंदना तिवारी के 5 साल के बच्चे और पति को दर दर भटकने पर मजबूर कर दिया।

इण्डियन फार्मासिस्ट एसोसिएशन की मध्यप्रदेश शाखा के आह्वान पर बीते रोज शनिवार को राजस्थान एवं मध्य प्रदेश के फार्मासिस्ट कर्मचारियों ने शहीद फार्मासिस्ट श्रीमती वंदना तिवारी के परिजनों को तत्काल 50 लाख की बीमा राशि व अनुकम्पा नियुक्ति हेतु मध्यप्रदेश सरकार को।

एक लाख ट्वीट किए जिससे यह मुद्दा ट्विटर पर टॉप ट्रेंड करता रहा। इंडियन फार्मासिस्ट एसोसिएशन एवं राजस्थान फार्मासिस्ट कर्मचारी संघ ने फार्मासिस्ट श्रीमती वंदना को न्याय नहीं मिलने पर मध्यप्रदेश सरकार को पत्र लिखकर देश भर के फार्मासिस्ट कर्मचारियों के साथ उग्र आंदोलन की चेतावनी दी हैं।