कोलारस की तरह पोहरी में भी किसानों के साथ ठगी, लाखों रूपए का लगाया चूना / Shivpuri News

शिवपुरी। जिले में इस समय किसान ठग और माफियाओं के लिए सॉफ्ट टारगेट बने हुए हैं। अभी हाल ही में कोलारस थाने में ई उपार्जन में गड़बड़ी करने वाले कई लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई मगर ऐसा ही एक मामला पोहरी क्षेत्र में सामने आया है जहां दर्जनों किसानों के नाम से ई उपार्जन पोर्टल पर पंजीयन करा लिया गया और शासन को लाखों रुपए की चपत लगाने की तैयारी कर ली है।

पोहरी क्षेत्र में हुए पंजीयन के इस अवैध कारोबार पर पोहरी अनुविभाग के अधिकारी कोई कार्यवाही नहीं कर रहे हैं। इस पूरे मामले की शिकायत पीडि़त किसानों द्वारा ग्वालियर सांसद से लेकर कृषि मंत्री तक कर दी गई है मगर फिर भी अवैध रूप से पंजीयन करने वाले लोगों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई है।

शिवपुरी जिले के कई विकासखण्डों में किसानों के साथ इसी तरह के फ्रॉड होने के समाचार मिल रहे हैं। पोहरी तहसील के ग्राम भटनावर निवासी कल्यान चंद शर्मा पुत्र गोपीलाल शर्मा उम्र 65 साल निवासी भटनावर की हल्का नंबर 52 सर्वे नंबर 339 जमींन है जिसमें उसकी गेंहू की फसल खड़ी हुई थी लेकिन उनकी भूमि पर पंजीयन किसी ओर ने करा लिया और उपज विक्रय की तैयारी भी कर ली।

यह मामला जैसे ही असल भू स्वामी कल्यानचंद शर्मा के संज्ञान में आया तो पता चला कि पंजीयन गंगाराम धाकड़ पुत्र हरगोविंद धाकड़ निवासी आकुर्सी के नाम पर है। जब उसने पूरी जानकारी जुटाई तो सामने आया कि अन्य सर्वे नंबर भी आरोपी ने अपने नाम पर पंजीकृत करा लिए।

बताया गया है कि उक्त घोटाले को अंजाम आरोपी ने अपने ही किसी रिश्तेदार से मिलकर किया है। जब इस संबंध में पीडित ने आरोपी से बात करने का प्रयास किया तो उसने भी यह कहा कि इस घटना के संबंध में उसें कोई जानकारी तक नहीं है। पीडि़त किसानों द्वारा इस मामले की शिकायत कलेक्टर से लेकर जिला खाद्य अधिकारी तक को कर दी है मगर कोई भी किसानों की शिकायत पर गौर नहीं कर रहा।

किसानों के साथ हुई इस धोखाधड़ी के मामले में प्रशासन का उदासीन रवैया समझ से परे है और ऐसे में प्रशासन पर भी माफियाओं से सांठगांठ के आरोप उछलना लाजिमी हैं।

इस पूरे मामले में स्थानीय पटवारी का कहना है कि हम हमारे यहाँ से पूरी जानकारी दे चुके हैं जिन लोगों की जमीन पर गलत तरीके से पंजीयन हुए हैं उनके नाम के आगे टीप भी लगा चुके हैं।