कोरोना काल में शुरू हुई सिंधिया की उपचुनाव की फिल्डिंग, बचाव की सलाह के साथ सक्रिय होने की हिदायत / Shivpuri News

शिवपुरी। प्रदेश की 24 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस से भाजपा में आए पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की सक्रियता शुरू हो गई है। इनमें 16 विधानसभा सीटें ग्वालियर-चंबल संभाग की हैं। सिंधिया के साथ कांग्रेस के संभाग के 15 विधायकों ने इस्तीफा दिया है जबकि जौरा की सीट कांग्रेस विधायक वनवारी लाल शर्मा के निधन के कारण पूर्व से ही रिक्त है।

संभाग की 16 सीटों में से दो सीटें शिवपुरी जिले की पोहरी और करैरा हैं। जहां के सिंधिया समर्थक कांग्रेस विधायक सुरेश राठखेड़ और जसवंत जाटव ने भी इस्तीफा दिया है। इन सीटों को जिताना सिंधिया के लिए प्रतिष्ठा का सवाल है। इसलिए कोरोना महामारी के दौर मेें भी उनकी राजनैतिक सक्रियता बढ़ गई है और उन्होंने उपचुनाव होने वाले निर्वाचन क्षेत्रों में अपने समर्थकों को फोन लगाना और उनसे सम्पर्क करना शुरू कर दिया है।

पोहरी और करैरा में पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने कई समर्थकों को फोन लगाकर जहां उनसे कोरोना से बचाव करने की सलाह दी है। वहीं चुनाव की जिम्मेदारी संभालने का भी उनसे आव्हान किया है।

पोहरी विधानसभा क्षेत्र की सीट कांग्रेस विधायक सुरेश राठखेड़ा के इस्तीफे के कारण रिक्त हुई है। श्री राठखेड़ा सिंधिया के साथ भाजपा में शामिल हो गए हैं और यह लगभग तय लग रहा है कि पोहरी विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव में वह भाजपा के उम्मीदवार होंगे। इस कारण श्री सिंधिया ने पोहरी विधानसभा क्षेत्र के अपने कई समर्थक कार्यकर्ताओं को फोन के माध्यम से समर्थन किया और उनके हाल चाल जाने।

जिनसे सम्पर्क किया उनमें मुख्य रूप से 2008 का विधानसभा चुनाव लड़े एनपी शर्मा, अवतार सिंह गुर्जर, जनपद अध्यक्ष पारम रावत, विजय यादव, पोहरी के पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष स्व. जमील अंसारी के सुपुत्र परवेज अंसारी आदि शामिल हैं। हालांकि इनमें से एनपी शर्मा, अवतार सिंह गुर्जर आदि ने अभी तक स्पष्ट नहीं किया है कि वह भाजपा में सिंधिया के साथ शामिल हुए हें अथवा कांगे्रस में बने हुए हैं।

उसी तरह से करैरा विधानसभा क्षेत्र के कार्यकर्ता किशन सिंह रावत, संदीप माहेश्वरी, पूर्व विधायक शकुंतला खटीक सहित कई कांग्रेस कार्यकर्ताओं से सिंधिया ने सम्पर्क कर उन्हें चुनाव के लिए सचेत किया।

संभाग की इन सीटों पर होंगे उपचुनाव

ग्वालियर-चंबल संभाग की 16 सीटों पर उपचुनावा होना है। इनमें से जौरा सीट पर विधायक वनवारीलाल शर्मा के निधन के कारण उपचुनाव पहले से तय था। इसके अलावा संभाग की जिन 15 सीटों पर और चुनाव होने हैं, वे हैं- सुमावली, अंबाह, मुरैना, गोहद, ग्वालियर पूर्व, मेहगांव, मुंगावली, पोहरी, करैरा, अशोकनगर, बमौरी, भांडेर, डबरा, ग्वालियर, दिमनी।

कांग्रेस टिकट की आशा में कई सिंधिया समर्थक नहीं हुए भाजपा में शामिल

पोहरी और करैरा विधानसभा क्षेत्र में कई सिंधिया समर्थक इसलिए भाजपा में शामिल नहीं हुए क्योंकि उन्हें नए घटनाक्रम में अब कंाग्रेस से टिकट की आस बंधने लगी है। इनमें पोहरी विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक हरिवल्लभ शुक्ला हैं, जो कि सिंधिया के खिलाफ खुलकर मुखर हो गए हैं। उनके अलावा जिला कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण धाकड़ हैं।

उन्होंने भी अपने पत्ते खोल दिए हैं कि वह कांग्रेस के साथ ही रहेंगे। पूर्व मंडी अध्यक्ष एनपी शर्मा ने हालांकि स्थिति अभी स्पष्ट नहीं की है। लेकिन कांग्रेस नेता अशोक सिंह से उनकी नजदीकी अवश्य चर्चित है। सिंधिया का फोन आने के बाद वह क्या फैसला लेते हैं, यह तय होना शेष है।

पूर्व ब्लॉक अध्यक्ष विनोद धाकड़ भी अभी असमंजस मेें हैं और वह तय नहीं कर पा रहे हैं कि कांग्रेस के साथ रहें अथवा सिंधिया के साथ भाजपा में जाएं। हालांकि सिंधिया ने जिन अपने समर्थक कार्यकर्ताओं को फोन किए हैं, उनमें विनोद धाकड़ शामिल नहीं हैं।